योगी आदित्यनाथ की जीवनी – Biography of Yogi Adityanath

योगी आदित्यनाथ की जीवनी - Biography of Yogi Adityanath

Yogi Adityanath Biography In Hindi – योगी आदित्यनाथ गोरखपुर के प्रसिद्ध गोरखनाथ मंदिर (Gorakhnath temple) के महंत, सामाजिक कार्यकर्ता और राजनेता हैं. अपने वाक्पटु भाषणों के कारण हमेशा सुर्ख़ियों में रहने वाले योगी आदित्यनाथ इस समय उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं.  

राज्य विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी की प्रचंड जीत के बाद योगी जी ने 19 मार्च, 2017 को राज्य के 21वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की ओर से योगी आदित्यनाथ जी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री की कमान अपने हाथों में ले ली थी.

वैसे तो योगी आदित्यनाथ जी का नाम कई बार सुर्खियों में बना रहता है, लेकिन जब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर उनके नाम की घोषणा हुई तो ज्यादातर समय वह सुर्खियों में रहे.

योगी आदित्यनाथ अपनी हिंदुत्व विचारधारा (Hindutva ideology) के लिए विशेष रूप से जाने जाते हैं, लेकिन संसद में योगी आदित्यनाथ द्वारा हिंदुत्व के अलावा अन्य विभिन्न मुद्दों पर चर्चा इस बात का जीता जागता उदाहरण है कि वह एक कुशल वक्ता भी हैं.

आज के लेख में हम आपको योगी आदित्यनाथ के बारे में कुछ ऐसे रोचक तथ्य बताने जा रहे हैं, जो शायद हम में से ज्यादातर लोग नहीं जानते हैं.

योगी आदित्यनाथ का संक्षिप्त में जीवन परिचय – Brief biography of Yogi Adityanath

पहचान का नामयोगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath)
जन्म नामअजय सिंह बिष्ट (Ajay Singh Bisht)
राष्ट्रीयताभारतीय
जन्म तिथि5 जून 1972
जन्म स्थानपौड़ी गढ़वाली (Pauri Garhwal)
पिता का नामआनंद सिंह बिष्ट (Anand Singh Bisht)
माता का नामसावित्री देवी (Savitri Devi)
धर्महिंदू (नाथ संप्रदाय)
पेशामहंत, सामाजिक कार्यकर्ता, भारतीय राजनेता
अध्यात्मिक गुरुमहंत अवैद्यनाथ महाराज
वैवाहिक स्थितिअविवाहित (सन्यासी)
राजनीतिक दलभारतीय जनता पार्टी (BJP)

योगी आदित्यनाथ का प्रारंभिक जीवन (Yogi Adityanath Early Life):

योगी आदित्यनाथ का जन्म 5 जून 1972 को उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाली गांव में एक गढ़वाली क्षत्रिय राजपूत परिवार में हुआ था और उनके बचपन का नाम अजय सिंह बिष्ट (Ajay Singh Bisht) है. 

उनके पिता का नाम आनंद सिंह बिष्ट है जो एक वन क्षेत्रपाल (Forest ranger) थे और उनकी माता का नाम सावित्री देवी है.

योगी आदित्यनाथ तीन बड़ी बहनों और एक बड़े भाई के बाद अपने माता-पिता की सात संतानों में पांचवीं संतान हैं और उनके दो और छोटे भाई भी हैं.

योगी आदित्यनाथ का शैक्षणिक विवरण (Yogi Adityanath Educational Details):

योगी आदित्यनाथ ने 1977 में टिहरी के गाजा के स्थानीय स्कूल में अपनी पढ़ाई शुरू की और 1987 में यहीं से दसवीं (SSC) की परीक्षा पास की. 1989 में, उन्होंने श्री भारत मंदिर इंटर कॉलेज, ऋषिकेश से इंटरमीडिएट की परीक्षा उत्तीर्ण की.

1992 में, उन्होंने एच.एन.बी गढ़वाल विश्वविद्यालय, उत्तराखंड से गणित में स्नातक की डिग्री (B.Sc) पूरी की है.

कोटद्वार में उनके आवास के दौरान उनके कमरे से सामान चोरी हो गया था, जिसमें उनका स्नातक प्रमाणपत्र भी था, इस कारण गोरखपुर से विज्ञान में स्नातकोत्तर करने का उनका प्रयास विफल हो गया. 

इसके बाद उन्होंने फिर से ऋषिकेश में स्नातकोत्तर विज्ञान में प्रवेश लिया, लेकिन “राम मंदिर आंदोलन” के प्रभाव और प्रवेश के संबंध में परेशानी के कारण उनका ध्यान भटक गया.

योगी आदित्यनाथ का तपस्वी जीवन (Yogi Adityanath’s ascetic life):

22 साल की उम्र में, योगी आदित्यनाथ सांसारिक जीवन त्याग कर सन्यासी (Monk) बन गए थे.

1993 में योगी जी “गुरु गोरखनाथ” पर शोध करने के लिए गोरखपुर आए थे और यहां आकर वे अपने चाचा महंत अवैद्यनाथ (Mahant Avaidyanath) की शरण में गए और उनसे दीक्षा भी ली.

1994 में वे पूर्ण सन्यासी बन गए, जिसके बाद उनका नाम अजय सिंह बिष्ट से बदलकर योगी आदित्यनाथ हो गया.

योगी आदित्यनाथ गोरखनाथ मंदिर के पूर्व महंत अवैद्यनाथ के उत्तराधिकारी हैं. 12 सितंबर 2014 को गोरखनाथ मंदिर के पूर्व महंत अवैद्यनाथ की मृत्यु के बाद उन्हें यहां का महंत बनाया गया था. 

दो दिन बाद उन्हें “नाथ पंथ” के पारंपरिक अनुष्ठान के अनुसार मंदिर का पीठाधीश्वर बनाया गया.

योगी आदित्यनाथ का राजनीतिक करियर (Yogi Adityanath Political Career):

योगीजी का राजनीतिक जीवन छात्र जीवन से ही शुरू हो गया था. 1990 में ग्रेजुएशन की पढ़ाई के दौरान, वह अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (Akhil Bhartiya Vidyarthi Parishad) से जुड़ गए थे.

गढ़वाल विश्वविद्यालय में पढ़ाई के दौरान उनकी गिनती अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के एक मजबूत कार्यकर्ता के रूप में की जाती थी.

योगी आदित्यनाथ पहली बार 1998 में गोरखपुर से भाजपा उम्मीदवार के रूप में लोकसभा (Lok Sabha) के लिए चुने गए थे और तब उनकी उम्र मात्र 26 साल थी और उस समय योगी आदित्यनाथ लोकसभा में सबसे कम उम्र के सदस्य थे.

योगी आदित्यनाथ 1998 से लगातार गोरखपुर सीट से चुनाव जीत रहे हैं और वह उसी निर्वाचन क्षेत्र से 5 बार सांसद सदस्य (Member of Parliament) भी बने हैं.

1999 में, वह गोरखपुर से फिर से सांसद चुने गए. 2004 में, उन्होंने तीसरी बार लोकसभा चुनाव जीता. 2009 में 2 लाख से ज्यादा वोट हासिल कर चौथी बार लोकसभा पहुंचे. 2014 में वे फिर से दो लाख से अधिक मतों से जीतकर पांचवीं बार निर्वाचित हुए थे.

19 मार्च, 2017 को उत्तर प्रदेश के भाजपा विधायक दल की बैठक में योगी आदित्यनाथ को विधायक दल का नेता चुना गया और उन्हें मुख्यमंत्री का पद भी सौंपा गया.

2008 में योगी आदित्यनाथ पर एक जानलेवा हमला भी हुआ था. हमलावरों ने योगी आदित्यनाथ के काफिले को घेर लिया था और अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी थी, लेकिन उस हमले में योगी आदित्यनाथ बाल-बाल बच गए. आपकी जानकारी के लिए बता दे कि उस समय योगी आदित्यनाथ आजमगढ़ के छात्र नेता अजीत सिंह (Ajit Singh) के तेरहवी में जा रहे थे, जिनकी कुछ अज्ञात बदमाशों ने हत्या कर दी थी.

योगी आदित्यनाथ की दिनचर्या (Yogi Adityanath’s daily routine):

सर्दी हो, गर्मी हो या बरसात का मौसम हो, लेकिन योगी आदित्यनाथ रोज सुबह 3 बजे उठ जाते हैं क्योंकि उनका मानना है कि योग और ध्यान के लिए इससे बेहतर समय नहीं हो सकता. वह सुबह हठ योग करते हैं, जो 2 घंटे तक चलता है.

योगी को गायों से बहुत प्रेम है, जिसके कारण वह सुबह के नाश्ते से पहले गायों को खाना खिलाते हैं और योग और प्रार्थना करने के बाद गौशाला में गायों की सेवा करते हैं.

योगी आदित्यनाथ द्वारा सामाजिक गतिविधि (Social Activity by Yogi Adityanath):

हिंदू युवा वाहिनी का गठन (Formation of Hindu Yuva Vahini): योगी जी हिंदू युवाओं के एक सामाजिक, सांस्कृतिक और राष्ट्रवादी समूह के संस्थापक भी हैं और उनकी छवि एक प्रखर राष्ट्रवादी नेता की है.

साल 2002 में, योगी आदित्यनाथ ने “हिंदू युवा वाहिनी (Hindu Yuva Vahini)” नामक एक सामाजिक संगठन बनाया, जो हिंदुत्व को समर्पित युवाओं का एक समूह है.

अन्य जीवनी पढ़ें:

अगर आपको Yogi Adityanath Biography In Hindi जानकारी अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी करे, हमारे अगले Post प्राप्त करने के लिए हमें करे और हमारा Facebook page करे, अपने सुझाव हमें Comments के माध्यम से दे.