क्षेत्रफल के हिसाब से दुनिया के 10 सबसे छोटे देश (The 10 Smallest Countries In The World By Area)

The 10 Smallest Countries In The World By Area

उम्मीद है आपको हमारी पिछली पोस्ट “क्षेत्रफल के अनुसार दुनिया के 10 सबसे बड़े देश” पसंद आई होगी, आज हम आपको बताने जा रहे है “क्षेत्रफल के हिसाब से दुनिया के 10 सबसे छोटे देश” जो इस प्रकार है.

10. माल्टा (Malta) – 316 km²
माल्टा, जिसे आधिकारिक तौर पर माल्टा गणराज्य कहा जाता है, दक्षिणी यूरोप में स्थित एक द्वीप राष्ट्र (island nation) है. माल्टा गणराज्य तीन द्वीपों से बना है: गूज़ो (Gozo), कोमिनो (Comino) और माल्टा (Malta), जो की तीनों द्वीपों में सबसे बड़ा द्वीप है. माल्टा की राजधानी वैलेटा (Valletta) है. 475,000 से अधिक की आबादी के साथ माल्टा दुनिया के सबसे छोटे और सबसे घनी आबादी वाले देशों में से एक है. माल्टा में सुनहरे मौसम, आकर्षक समुद्र तटों और नाइटलाइफ़ के लिए दुनिया भर से पर्यटक आते हैं. देश का सबसे ऊंचा स्थल टै’डमेरज्रेक (Ta’Dmerjrek) है, जो डिंगली (Dingli) चट्टानों पर स्थित है, ये स्थल सिर्फ 830 फीट की ऊंचाई पर स्थित है. माल्टा का क्षेत्रफल 316 वर्ग किलोमीटर है, इसी के साथ ये देश दुनिया के सबसे छोटे देशों में दसवें स्थान पर है.

9. मालदीव (Maldives) – 300 km²
मालदीव एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल होने के साथ ही क्षेत्रफल और जनसंख्या के हिसाब से एशिया का सबसे छोटा देश है. मालदीव की राजधानी और सबसे ज्यादा आबादी वाला शहर माले (Malé) है, जिसे पारंपरिक रूप से “किंग्स आइलैंड” कहा जाता है. मालदीव में 1,192 से ज्यादा छोटे बड़े द्वीप हैं, जो 90,000 वर्ग किमी में फैले हुए हैं, इस वजह से मालदीव भौगोलिक रूप से दुनिया के सबसे बिखरे हुए देशों में से एक माना जाता है. यह देश कभी, पुर्तगाल, डच और ब्रिटिशों के साम्राज्यों के अधीन था, लेकिन मालदीव ने 1965 में यूनाइटेड किंगडम से स्वतंत्रता प्राप्त की और एक स्वतंत्र देश बन गया. मालदीव की ज्यादातर अर्थव्यवस्था पर्यटन उद्योग पर निर्भर है. मालदीव दुनिया का नौवां सबसे छोटा देश है जिसकी जनसंख्या लगभग 400,000 है, और कुल क्षेत्रफल 300 वर्ग किलोमीटर है. वर्तमान में यह देश जलवायु परिवर्तन और समुद्र के बढ़ते स्तर की वजह से चिंतित है, क्योंकि मालदीव का सबसे ऊंचाई वाला क्षेत्र समुद्र स्तर से केवल 7.8 फीट ऊंचाई पर है.

8. सेंट किट्स और नेविस (Saint Kitts and Nevis) – 261 वर्ग किमी
सेंट किट्स और नेविस एक कैरिबियन द्वीप देश है, दरअसल यह देश दो द्वीपों (किट्स और नेविस) का समूह है. सेंट किट्स और नेविस ने 1983 में यूनाइटेड किंगडम से स्वतंत्रता प्राप्त की थी, इसका कुल क्षेत्रफल 261 वर्ग किलोमीटर है और जनसंख्या 54,000 है. इस देश की अर्थव्यवस्था पर्यटन, कृषि और छोटे व्यावसायिक उद्योगों पर निर्भर है, सेंट किट्स और नेविस सदियों से चीनी (sugar) का एक प्रमुख निर्यातक देश रहा है.. सेंट किट्स एंड नेविस, कैरिबियन सागर में प्यूर्टो रिको (Puerto Rico) और त्रिनिदाद और टोबैगो (Trinidad and Tobago) के बीच स्थित है. क्षेत्रफल और जनसंख्या के आधार पर यह अमेरिका का सबसे छोटा और दुनिया का आठवां सबसे छोटा देश है.

7. मार्शल आइलैंड्स (Marshall Islands) – 181 वर्ग किमी
मार्शल आइलैंड्स, जिसे आधिकारिक रूप से मार्शल आईलैंड्स गणराज्य कहा जाता है, यह एक द्वीप देश है जो प्रशांत महासागर में अमेरिका के हवाई राज्य और ऑस्ट्रेलिया महाद्वीप के मध्य में स्थित है. मार्शल आइलैंड्स ने 1986 में स्वतंत्रता प्राप्त की, इससे पहले यह संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा प्रशासित ट्रस्ट आइलैंड्स ऑफ पैसिफिक आइलैंड्स का हिस्सा था. मार्शल द्वीप के आसपास के क्षेत्र में मछलियों की 800 से अधिक प्रजातियां और 160 प्रकार के प्रवाल पाए जाते हैं. 58,000 जनसंख्या और 181 वर्ग किलोमीटर के साथ, मार्शल द्वीप दुनिया का सातवां सबसे छोटा देश है.

6. लिकटेंस्टीन (Liechtenstein) – 160 किमी²
यह दुनिया का एकमात्र ऐसा देश है जो पूरी तरह से आल्प्स पर्वत में स्थित है. यह देश स्विट्जरलैंड और ऑस्ट्रिया के बीच स्थित है और यह एक जर्मन भाषिक देश है. लिकटेंस्टीन, GDP और सबसे कम बेरोजगारी दर (1.5%)  के आधार पर दुनिया का सबसे अमीर देश है. इस देश में कोई हवाई अड्डा (airport) नहीं है जिसकी वजह से यहां सीधे हवाई मार्ग से नहीं जा सकते, इसके लिए पर्यटकों को स्विट्जरलैंड के ज्यूरिख हवाई अड्डे के माध्यम से लिकटेंस्टीन जाना होता है. लिकटेंस्टीन एक वंशानुगत संवैधानिक राजतंत्रीय देश है जो अभी भी एक राजकुमार द्वारा शासित है. 160 वर्ग किलोमीटर के साथ, लिकटेंस्टीन दुनिया का छठा सबसे छोटा देश है. 

5. सैन मैरिनो (San Marino) – 61 किमी²
सैन मैरिनो एक पहाड़ी देश है जो पूरी तरह से इटली से घिरा हुआ है. यह देश एक ऊँचे पहाड़ पर स्थित है जिसकी जनसंख्या केवल 33,000 है. सैन मैरिनो की मान्यता है की यह देश यूरोप का सबसे पुराना राज्य है, जिसकी स्थापना चौथी शताब्दी में हुई थी. कुल 61 वर्ग किलोमीटर के साथ, यह यूरोप का तीसरा सबसे छोटा देश और दुनिया का पांचवा सबसे छोटा देश है.

4. तुवालु (Tuvalu) – 26 किमी²
तुवालु जिसे पूर्व-काल में एलिस द्वीप (Ellice Islands) के नाम से जाना जाता था, ऑस्ट्रेलिया के उत्तर-पूर्व में प्रशांत महासागर में स्थित है. इस छोटे से देश की राजधानी फनाफ़ुटी (Funafuti) है, जो तुवालु का सबसे बड़ा शहर भी है. इसकी आधिकारिक भाषाएं तुवालुअन और अंग्रेजी हैं. पुरे देश के सड़कों की लम्बाई (road network) मात्र 8 किमी है साथ ही ये दुनिया का सबसे छोटा सड़क नेटवर्क (road network) भी है. तुवालु द्वीप पर केवल एक अस्पताल मौजूद है. तुवालु की जनसंख्या लगभग 12,000 है. कुल 26 वर्ग किलोमीटर के साथ, तुवालु दुनिया का चौथा सबसे छोटा देश है.

3. नौरू (Nauru) – 21 किमी²
नौरू, ऑस्ट्रेलिया के पूर्व में स्थित एक द्वीप राष्ट्र है, और दुनिया का सबसे छोटा द्वीप देश है. पूर्व काल में इसे Pleasant Island के नाम से जाना जाता था. यह 1980 के दशक में फॉस्फेट खनन के लिए जाना जाता था, यहां के फॉस्फेट संसाधन अब समाप्त हो गए हैं. पर्यटकों के भीड़-भाड़ से दूर यह एक शांत द्वीप है. नौरू को दुनिया के सबसे अधिक मोटे लोगों वाले देश के रूप में भी जाना जाता है, इसका कारण है की यहां के 97% पुरुष और 93% महिलाएं मोटे शरीर या अधिक वजन वाले है. मोटापे की वजह से, नौरु टाइप 2 मधुमेह के उच्चतम स्तर का घर बन गया है, जिसकी वजह से यहां की 40% आबादी इस बीमारी से पीड़ित है. नौरू का क्षेत्रफल  कुल 21 वर्ग किलोमीटर है, नौरू दुनिया का तीसरा सबसे छोटा देश है.

2. मोनाको (Monaco) – 2 किमी²
फ़्रांस और इटली के बीच स्थित मोनैको दुनिया का दूसरा सबसे छोटा देश है. मोनाको, दुनिया के सबसे ज्यादा करोड़पति और अरबपतियों वाला देश है. 36,000 से अधिक की आबादी के साथ, मोनाको दुनिया का सबसे घनी आबादी वाला देश है. यहां के ज्यादातर निवासी फ्रेंच भाषिक हैं. देश में मोंटे कार्लो (Monte Carlo) केवल एक ही आधिकारिक शहर है, जो इसकी राजधानी है और दुनिया के कुछ सबसे अमीर लोगों के लिए एक रिसॉर्ट के रूप में प्रसिद्ध है. यहां हर साल दुनिया की मशहूर “फॉर्मूला 1 रेस” प्रतियोगिता आयोजित की जाती है. मोनाको का कुल भूमि क्षेत्रफल केवल 2 वर्ग किलोमीटर है. 

1. वेटिकन सिटी (Vatican City) – 0.44 किमी²
दुनिया के सबसे छोटे देशों में से, वेटिकन सिटी दुनिया का सबसे छोटा देश है. धर्म के संदर्भ में एक प्रभावशाली देश होने के साथ ही यह रोमन कैथोलिक चर्च का आध्यात्मिक केंद्र और पोप का निवास स्थान भी है. वैटिकन सिटी, जिसे आधिकारिक रूप से The Holy See कहा जाता है, इटली की राजधानी रोम में एक दीवार नुमा क्षेत्र के भीतर स्थित है. वेटिकन सिटी की जनसंख्या लगभग 800 है, जिनमें से कोई भी यहां का मूल स्थायी निवासी नहीं है. देश के राज्य प्रमुख के तौर पर पोप (ईसाई धर्म गुरु) कामकाज संभालते है.

क्षेत्रफल के अनुसार दुनिया के 10 सबसे बड़े देश

अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी करे, हमारे अगले Post प्राप्त करने के लिए हमें करे और हमारा Facebook page करे, अपने सुझाव हमें Comments के माध्यम से दे.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *