लिओनार्दो दा विंसी: जीवन, चरित्र, चित्रकारी, चित्रांकन, आविष्कार – Leonardo da Vinci: Life, Biography, Paintings, Drawings, Inventions in Hindi

Leonardo da Vinci: Life, Biography, Paintings, Drawings, Inventions in Hindi - लिओनार्दो दा विंसी: जीवन, चरित्र, चित्रकारी, चित्रांकन, आविष्कार

लिओनार्दो दा विंसी (Leonardo da Vinci) मानवता के इतिहास में सर्वकालीन सर्वोच्च प्रतिभाशाली व्यक्ति के रूप में जाने जाते है, जिन्हें शायद सबसे पहले एक कलाकार के रूप में ही जाना जाता है. उनकी पेंटिंग: द मोना लिसा (The Mona Lisa), द लास्ट सपर (The Last Supper), विट्रुवियन मैन (Vitruvian Man) सभी समय के सबसे प्रसिद्ध, स्वीकार करने योग्य और सराहनीय कामों में से हैं. लेकिन लिओनार्दो की व्याख्या एक अति बहुज्ञ नवयुग रचनाकार व्यक्ति के रूप में की जा सकती है.

लिओनार्दो दा विंसी एक प्रतिभाशाली व्यक्ति थे जिन्होंने अपने विचारों से सदियों पहले क्रांतिकारी विचारों का आविष्कार किया था. एक दूरदर्शी चित्रकार होने के अलावा, वह एक इंजीनियर, वास्तुकार, लेखक, वैज्ञानिक और आविष्कारक थे. वास्तव में, उनके पास इतने विशाल नवाचार (Innovations) थे कि आज, कुछ लोगों का तर्क है कि उन्हें सबसे पहले एक वैज्ञानिक के रूप में मान्यता दी जानी चाहिए.

जबकि आप उन्हें ‘मोना लिसा’ या ‘द लास्ट सपर’ जैसी कला के अपने सबसे प्रसिद्ध कलाकृतियों के लिए जानते हैं, लेकिन बहुत कम लोग चित्रों के पीछे के आदमी को जानते हैं. आज हम लिओनार्दो दा विंसी के जीवनकाल के बारे में बात कर रहे हैं.

वह “पुनर्जागरण पुरुष (Renaissance Man)” की परिभाषा का प्रतीक है – जिसने विभिन्न विषयों की एक किस्म का अध्ययन और महारत हासिल की.

दुर्भाग्य से, उनके अधिकांश वैज्ञानिक कार्य दस्तावेजों में से कम से कम सात हजार पन्ने, जिन्हें वह पीछे छोड़ गए है; वह सब उनकी मृत्यु के बाद भी सदियों तक अज्ञात रहे, विभिन्न संग्रहों में बिखरे रहे, या खो गए.

और क्योंकि उनके पास औपचारिक प्रशिक्षण नहीं होने के कारण, लिओनार्दो लैटिन भाषा नहीं जानते थे. इसलिए अपने जीवनकाल के दौरान भी, वह अकादमिक दुनिया के साथ ज्यादा तालमेल नहीं बना पा रहे थे. तो इस सब का बुरा परिणाम यह हुआ कि वास्तव में उनके द्वारा किये गए कुछ अग्रणी शोधों के बावजूद, लिओनार्दो का अपने समय के विज्ञान और प्रौद्योगिकी (Science & Technology) पर कम प्रभाव पड़ा.

लेकिन आज, शुक्र है कि हमने लिओनार्दो की रचनाओं के कई सारे साहित्यिक कार्यों को एकत्रित कर लिया है, यह देखने के लिए कि वह वास्तव में अपने समय से कितने मायनों में आगे थे. 

लिओनार्दो दा विंसी के जन्म के बारे में संक्षिप्त ज्ञान (Brief knowledge about the birth of Leonardo da Vinci)

लिओनार्दो का जन्म 15 अप्रैल, 1452 को ‘विंसी’ नामक एक टस्कन गांव में हुआ था. लिओनार्दो के माता-पिता उनके जन्म के समय अविवाहित थे. उनके पिता, ‘सेर पिएरो’ (Ser Piero), एक फ्लोरेंटाइन नोटरी और जमींदार थे, और उनकी मां ‘कैटरिना डी मेओ लिप्पी’ (Caterina di Meo Lippi) नाम की एक सुंदर किसान लड़की थी. उनके पिता ने लड़के (लिओनार्दो) की जिम्मेदारी ली और उसे अपनी पत्नी के साथ परिवार की संपत्ति पर पाला.

लेकिन एक अवैध बच्चे के रूप में, युवा लिओनार्दो को अपने पिता का अंतिम नाम भी नहीं दिया गया था. उन्हें बस लिओनार्दो दा विंसी कहा जाता था जिसका अर्थ है ‘विंसी’ का रहने वाला लिओनार्दो.

लिओनार्दो 5 साल की उम्र तक अपनी जन्म देने वाली मां के साथ रहे और उनके पिता ने उन्हें पालने की जिम्मेदारी संभाली. लिओनार्दो की मां कैटरीना एक ऐसे व्यक्ति से शादी करने के लिए चली गई, जिसे बस एक ‘लड़ाकू’ कहा जाता था. लिओनार्दो के पिता, मेसर, ने एल्बिएरा (Albiera) नाम की एक 16 वर्षीय रईस लड़की से शादी की, और उनके खुद के वैध बच्चे भी हुए.

लिओनार्दो दा विंसी के प्रारंभिक जीवन के बारे में संक्षिप्त जानकारी (Brief knowledge about the early life of Leonardo da Vinci)

स्कूल जाने के बजाय, युवा लिओनार्दो ने ग्रामीण इलाकों को ही अपनी कार्यशाला बना लिया था. कम उम्र से ही वह जिज्ञासु थे, और वास्तव में प्रकृति से प्यार करते थे. वह चाहते थे कि मनुष्य भी पक्षियों की तरह हवा में उड़ सके, और मछली की तरह समुद्र में तैर सकें. अपने भाइयों के साथ, उन्होंने युद्ध के खेल खेले, और उन्होंने अपने पिता द्वारा बताई गई कहानियों में योद्धा की तरह विजयी होने की कल्पना की.

हांलाकि, मासूमियत का यह दौर हमेशा के लिए नहीं चल सका. जैसे-जैसे वह बड़े हो रहे थे, लिओनार्दो को पता चला कि उन्हे परिवार की संपत्ति विरासत में नहीं दी जाएगी. लिओनार्दो के 9 भाई और 3 बहनें थीं. इसलिए, भले ही वह अपने पिता की संपत्ति को प्राप्त कर लेते, तो भी सब कुछ पाने के लिए वह संपत्ति पर्याप्त नहीं होती. 

उन्हें व्यापार सीखना था और यह पता लगाना था कि खुद की देखभाल कैसे करें. मध्ययुगीन इटली के टस्कनी क्षेत्र की राजधानी फ्लोरेंस में, कारीगरों और व्यापारियों का संघ व्यापारिक संघ की तरह थे, और उन्हें नौकरियों की कई श्रेणियों में विभाजित किया गया था जिसे कोई भी व्यक्ति चुन सकता था, जब तक कि वह उचित सामाजिक वर्ग में पैदा नहीं हुआ हो. उच्चतम श्रेणी के कारीगरों और व्यापारियों के संघ के मुखिया को ‘आरती मगियोरी’ (Arti Maggiori) कहा जाता था, और उनके पिता प्रभावशाली वकीलों, न्यायाधीशों और नोटरी के कारीगरों और व्यापारियों के संघ के अलावा होते थे. 

लेकिन एक नाजायज बच्चे के रूप में, यह निम्न वर्ग में होने जैसा था, और लिओनार्दो को ‘आरती मेडियन’ (Arti Mediane) जैसी मध्यम वर्ग के कारीगरों और व्यापारियों के संघ श्रेणियों में शामिल होने की अनुमति भी नहीं थी, जिसमें मध्यवर्गीय कौशल जैसे लोहार और पत्थर के राजमिस्त्री थे. उनका एकमात्र विकल्प ‘आरती माइनोरी’ (Arti Minori) में शामिल होना था, जिसमें बेकर्स और मिलर्स जैसी निम्न-श्रेणी की नौकरियां थीं.

लिओनार्दो दा विंसी की कला शिक्षा और शिक्षक (Leonardo da Vinci’s Art Education & Teacher)

एक प्रतिभाशाली व्यक्ति से आप क्या उम्मीद कर सकते हैं, यही की एक प्रतिभाशाली व्यक्ति वह है जो सार्थक शिक्षा की एक प्रक्रिया से गुजरा है जिसके परिणामस्वरूप उसमे व्यक्तिगत और बौद्धिक जीवन में परिचित और अभिनव स्थितियों में प्रभावी ढंग से कार्य करने की बढ़ी हुई मानसिक क्षमता होती है. लेकिन इसके विपरीत, दा विंसी ने बुनियादी पढ़ने, लिखने और अंकगणित से परे कोई अधिक औपचारिक शिक्षा प्राप्त नहीं की थी. 

हालांकि, लिओनार्दो के पिता अभी भी चाहते थे कि उनका बेटा एक अच्छा जीवन जिए. वह देख सकते थे कि लिओनार्दो में कला के लिए एक स्वाभाविक प्रतिभा है. इसलिए, उनके पिता ने उन्हें ‘आंद्रे डेल वेरोकियो’ (Andre del Verrocchio) नाम के एक व्यक्ति से मिलवाया, जो फ्लोरेंस शहर में एक कलाकेंद्र चलाते थे. लिओनार्दो के बनाये रेखाचित्रों को देखने के बाद, वह लिओनार्दो को शिक्षार्थी के रूप में लेने के लिए तैयार हो गए. 

आंद्रे डेल वेरोचियो के पास उनकी कार्यशाला में उनके लिए कई कलाकार और शिल्पकार काम कर रहे थे. वह धनी और प्रभावशाली परिवारों से काम लेते थे और अपने छात्रों और कर्मचारियों के बीच काम का बंटवारा करते थे. उनके कलाकेंद्र ने शहर की सुंदरता को बेहतर बनाने पर काम किया. उन्हें सभी माध्यमों के साथ काम करना था, चाहे वह संगमरमर की मूर्तियों को उकेरना, धातु की ढलाई करना, या चित्रांकन करना था. यहां तक कि वास्तुकला, पुल और नागरी अभियांत्रिकी के अन्य निर्माण भी वेरोचियो के कलाकेंद्र के सदस्यों द्वारा तैयार किए गए थे. इसलिए लिओनार्दो के लिए विभिन्न विषयों को सीखना आवश्यक हो गया.

लिओनार्दो और वेरोकियो की संयुक्त चित्रकारी: ‘द बैपटिज्म ऑफ क्राइस्ट’ (The Baptism of Christ by Verrocchio and Leonardo)

कुछ वर्षों के प्रशिक्षण के बाद, लिओनार्दो दा विंसी ने कैथोलिक चर्च के लिए एक चित्रकारी में वेरोकियो की सहायता की, जिसे ‘द बैपटिज्म ऑफ क्राइस्ट’ (The Baptism of Christ) कहा जाता है. यह चर्च की दीवार पर एक बहुत बड़ा भित्ति चित्र था, इसलिए दो कलाकारों को एक ही समय में खड़े होने और चित्रकारी पर काम करने के लिए पर्याप्त जगह थी. वेरोकियो ने लियोनार्दो को दो स्वर्गदूतों को चित्रित करने का निर्देश दिया था जो उनके किसी न किसी रेखा-चित्र में शामिल थे.

जब दा विंसी ने अपना काम पूरा किया, तो वेरोकियो उनका काम देखकर सदमे में थे. वह विश्वास नहीं कर पा रहे थे कि चित्रकारी कितनी भव्य और जीवनदायिनी थी. वह जान चुके थे कि यह चेला अब गुरु से आगे निकल चुका है. अपने 20 वर्ष आयु के मध्य तक, लिओनार्दो दा विंसी वेरोकियो के कलाकेंद्र में एक सर्वश्रेष्ठ कलाकार बन गए, और उन्होंने फ्लोरेंस शहर में खुद के लिए उचित प्रतिष्ठा भी अर्जित की.

लिओनार्दो ने अपनी कला के साथ कई सारे प्रयोग किए, जैसे कि किसी वस्तु पर छायांकन कैसे बदला जाये या किसी के चेहरे का रेखा-चित्र बनाने के लिए दिन का सही समय तय करना, ई. हालांकि, उनकी प्रतिभा भी एक अभिशाप थी, क्योंकि इससे कला समुदाय के कुछ लोग लिओनार्दो से ईर्ष्या करते थे.

लिओनार्दो दा विंसी और कानूनी कार्यवाही (Leonardo da Vinci & Legal Proceedings)

24 साल की उम्र में, दा विंसी पर एक पुरुष वेश्या के साथ यौन संबंध बनाने का आरोप लगाया गया था, और उन्हें पुस्र्षमैथुन (Sodomy) के आरोप में गिरफ्तार भी किया गया था. उस समय, पुस्र्षमैथुन की सजा यानि आग में जलाकर मारा जाता था. लेकिन जब वह अदालत में पेशी के लिए गए, तो कोई सबूत या गवाह पेश नहीं किए गए, और वे यह भी साबित नहीं कर सके कि उन्होंने कुछ भी अवैध किया था. इसलिए उन्हें बरी कर दिया गया. हालांकि, भले ही उन्हें निर्दोष पाया गया, उन्होंने अपनी दैनिक पत्रिकाओं में लिखा कि इस घोटाले ने उनकी प्रतिष्ठा को बहुत चोट पहुंचाई. उनकी स्पष्ट प्रतिभा के बावजूद, फ्लोरेंस शहर के बहुत कम ग्राहक उनके साथ काम करने के लिए इच्छुक थे.

हमें उनके वास्तविक यौन संबंधों के बारे में कोई वास्तविक जानकारी उपलब्ध नहीं है, सिवाय इसके कि उन्होंने कभी शादी नहीं की. कुछ लोगों का मानना है कि अपने काम पर अधिक ध्यान केंद्रित करने के लिए उन्होंने ब्रह्मचारी होना चुना. 

जब वह 29 साल के हुए, तो उन्हें खुद एक चर्च में अपना पहला भित्ति-चित्र बनाने के लिए कहा गया. चित्रकारी को ‘मैगी का प्रवेश’ (Adoration of the Magi) कहा जाता था, और उन्होंने अतीत में किसी भी अन्य चित्रकार द्वारा किए गए कार्य से ऊपर और परे अपनी अवधारणा का उपयोग किया. यह एक अविश्वसनीय काम था, लेकिन दा विंसी ने इसे नजरअंदाज कर दिया, क्योंकि इस पर काम करते हुए बहुत लंबा समय बिताने के बाद, उन्होंने फैसला किया कि वह भित्ति-चित्र खत्म नहीं कर सकते.

वह उस समय बहुत बेचैन थे और वास्तव में उनके पास बैठने और सारे प्रोजेक्ट को पूरा करने का धैर्य नहीं था. उनके पास बहुत सारे शानदार विचार थे, उन्हें कभी-कभी विचारों को क्रियान्वित करने में परेशानी होती थी. ग्राहक द्वारा भुगतान किये जाने और फिर अपने काम को पूरा करने में विफल रहने के कारण, दा विंसी पर वास्तव में एक से अधिक बार मुकदमा दायर किया गया था. इसी के साथ, पुस्र्षमैथुन (Sodomy) के आरोप ने इसे और गंभीर बना दिया था, उनकी प्रतिभा उनकी खराब प्रतिष्ठा के लिए पर्याप्त नहीं थी.

लियोनार्डो दा विंची और इतालवी नवजागृति (Leonardo da Vinci & The Italian Renaissance)

दा विंसी ने सोचा कि शायद, अब एक नई शुरुआत करने का समय है. इटली के मिलान शहर में एक नया जीवन, भले ही वह फ्लोरेंस शहर के अन्य चित्रकारों से कई अधिक प्रतिभाशाली था, लेकिन 30 वर्ष की आयु में लिओनार्दो दा विंसी का जीवन अभी भी एक मध्यम संकट से गुजर रहा था. 

लेकिन यह समझने के लिए कि वह वैज्ञानिक रूप से कितने शानदार और अभिनव थे, हमें समज़ना होगा कि उनके समय में क्या चल रहा था. 1400 के दशक के उत्तरार्ध में जब लिओनार्दो एक युवा कलाकार के रूप में उभर रहे थे, तब यूरोप मूल रूप से आधुनिक अर्थों में अधिकांश वास्तविक विज्ञान से वंचित था. आधुनिक दुनिया के बारे में हम जो कुछ भी जानते थे, वह सब बाइबल पर आधारित था या प्राचीन दार्शनिकों और चिकित्सकों से पारित हुआ था और बहुत कुछ सिर्फ अंधविश्वास या पूरी तरह से गलत था.

लेकिन लिओनार्दो उन बेबुनियादी बातों पर कोई ध्यान नहीं दे रहे थे. वह अपने पूर्वजों से प्रभावित थे, लेकिन वह सभी क्रमबद्ध अवलोकन, प्रयोग और तर्क के बारे में भी अग्रसर थे. जबकि अरबी विद्वान अपने वैज्ञानिक तरीकों से दुनिया के बाकी हिस्सों से काफी आगे थे, तब यूरोप में, लिओनार्दो विज्ञान के लिए एक अनुभवजन्य दृष्टिकोण का उपयोग कर रहे थे. 

उन्होंने महसूस किया कि एक पेशेवर कलाकार की जीवनशैली उनके अनुकूल नहीं थी, और उन्होंने शस्त्रास्त्र की रचना करने की ठान ली. उनके पास अविश्वसनीय आविष्कारों से भरी एक पूरी किताब थी जिसे सालों बाद तक अमल में नहीं लाया गया था, जैसे की एक टैंक, एक विशाल क्रॉसबो, अंडरवाटर स्कूबा गियर और यहां तक कि स्वयंचलित सैनिक की कल्पना भी शामिल थी. वह वास्तव में अपने समय से सैकड़ों साल आगे थे, लेकिन युद्ध के बिना, ये शस्त्रास्त्र वास्तव में कभी अस्तित्व नहीं आए.

लिओनार्दो दा विंसी ने मिलान शहर जाने की योजना बनाई क्योंकि यह इटली का सबसे उत्तरी राज्य था, लेकिन वह अपनी यात्रा की शुरुआत करने से पहले अपना रोजगार सुरक्षित करना चाहते थे. चूंकि मिलान शहर फ्रांस के इतना करीब था, इसलिए देश की रक्षा के लिए हथियारों को इकट्ठा करने में उनकी दिलचस्पी अधिक थी.

उन्होंने मिलान शहर के शासक (Duke) को एक पत्र भेजा, जिसमें उन्होंने दावा किया कि वह एक शस्त्रागार विशेषज्ञ है, और उन्होंने अपनी स्केचबुक से कुछ दस्तावेज भी जोड़े. पत्र के अंत में, उन्होंने एक पंक्ति का उल्लेख करते हुए कहा कि वह एक चित्रकार भी हैं. 

‘लुडोविको सेफोर्ज़ा’ (Ludovico Sforza) मिलान शहर के अस्थायी शासक (Duke) थे, जब तक उनके भतीजे की उम्र शासक बनने लायक नहीं हो गई, तब तक लुडोविको ने सत्ता की स्थिति को बनाए रखा. सेफोर्ज़ा ने लिओनार्दो दा विंसी को मिलने के लिए आमंत्रित किया, और लिओनार्दो को इस बात से अपार खुशी हुई, वह अंततः अपने पेशे में बदलाव करने में सक्षम होने की उम्मीद कर रहे थे. 

लिओनार्दो दा विंसी की रचना ‘लेडी विद ए इर्मिन’ (Lady with an Ermine by Leonardo da Vinci)

लेकिन, जब लिओनार्दो वहां मिलने पहुंचे, तो उन्हें यह जानकर बड़ी निराशा हुई कि ड्यूक बस उनसे अपनी खूबसूरत उपपत्‍नी की तसवीर बनाना चाहते थे. आज, उस चित्र को ‘लेडी विद एर्मिन’ (Lady with an Ermine) के नाम से जाना जाता है. भले ही वह चित्रकार बनने से बचने के लिए मिलान शहर में आये थे, फिर भी उन्होंने अपनी प्रतिभा से लोगों को प्रभावित कर दिया. 

सेफोर्ज़ा, लिओनार्दो के कला से इतना प्रभावित हुआ, की उसने लिओनार्दो को एक 24 फीट ऊंचे घोड़े की मूर्ति स्थापित करने की पेशकश की. दा विंसी ने उन्हें बताया कि इसे पूरा होने में कम से कम 3 साल का समय लगेगा.

वास्तव में, दा विंसी समय की वजह से चिंतित थे, क्योंकि वह अपने गुरु के कलाकेंद्र की मदद के बिना इसे पूरा नहीं कर सकते थे, उन्हें इस बात का अंदाजा नहीं था कि 24 फीट ऊंचे धातु के घोड़े को कैसे पूरा किया जाना चाहिए.

याद रखें- यह 1400 के दशक की बात थी, इसलिए उनकी मदद करने के लिए आधुनिक मशीनरी का कोई लाभ नहीं था. सेफोर्ज़ा अभी भी सत्ता पर अपनी पकड़ बनाये रखने में जुटे हुए थे, और मिलान के ड्यूक का मानना था कि धातु की मूर्तियों जैसी चीजों के लिए भुगतान करना किसी भी तरह उच्च समाज में उनका स्थायित्व बनाये रखने में मददगार साबित होगा. 

सबसे पहले, दा विंसी ने मिट्टी से बने घोड़े की प्रतिकृति बनाई, और एक सभा में इसका अनावरण किया गया, जहां दा विंसी को आधिकारिक तौर पर सेफोर्ज़ा के शाही दरबार में स्वीकृत किया गया था. 

दुर्भाग्य से, उनकी कई परियोजनाओं की तरह, यह कार्य भी समय से बाहर चल रहा था. सौभाग्य से, सेफोर्ज़ा ने युद्ध में जाने का फैसला किया, और उसे अपनी सेना के हथियारों के लिए धातु से बने संसाधनों की आवश्यकता थी. एक बार फिर, दा विंसी ने सोचा कि यह शस्त्रास्त्रों के रचनाकार के रूप में उभरने का एक सुनहरा अवसर है, लेकिन उनके निर्माण के लिए पर्याप्त संसाधन उपलब्ध नहीं थे.

लिओनार्दो दा विंसी की रचना ‘द लास्ट सपर’ (The Last Supper by Leonardo Da Vinci)

मिलन शहर के शासक ने उन्हें ‘सांता मारियाडेल ग्रैज़ी’ (Santa Mariadelle Grazie) नामक एक चर्च को सजाने का एक नया काम सौंपा, जहां उन्होंने अपने सबसे प्रसिद्ध कार्यों में से एक भित्ति-चित्र ‘द लास्ट सपर’ (The Last Supper) चित्रित किया.

उस समय, चर्च के पुरोहित वास्तव में लिओनार्दो से बहुत नाराज थे, क्योंकि चर्च की जिस दीवार पर यह भित्ति चित्र बनाया जा रहा था उसे पूरा करने में लिओनार्दो को 3 साल का समय लगा.

17 वर्षों तक, दा विंसी ने सेफोर्ज़ा के शाही दरबार में आर्थिक सुरक्षा और सम्मान का जीवन बिताया. जब वे मिलान शहर में निवास कर रहे थे, उसी दौरान दा विंसी के पास एक गुप्त परियोजना थी जिसे उन्होंने कभी किसी को बताने की हिम्मत नहीं की, और यही कारण था कि उनके बाकी कामों में इतना समय लग रहा था. 

वह मानव के मृत शरीर को विच्छेदित करते थे और उनके शरीर, मांसपेशियों और अन्य अंगों के रेखाचित्र बनाते थे. उन्होंने मानव अंगों के आधार पर मोम की प्रतिकृतियां भी बनाईं. हां, यह बिलकुल अविश्वसनीय रूप से डरावना लगता है, और उन्हें इस बात का एहसास हुआ, यही कारण है कि उन्होंने अपनी स्केचबुक को हमेशा गुप्त रखा, और यह केवल 1600 के दशक में प्रकाश में आई.

उस समय, शव के साथ चीर-फाड़ या मृतकों को परेशान करने जैसे किसी अन्य तरिके को कैथोलिक चर्च द्वारा उधेड़ कर रख दिया जाता था. वह जानते थे की फ्लोरेंस शहर में रहते हुए उन्हें अपनी मलिन प्रतिष्ठा का कैसे सामना करना पड़ा था, इसलिए वह इस बार दोहरा जीवन व्यतीत करते हुए अधिक सावधानी बरत रहे थे. 

भले ही उनकी स्केचबुक 100 साल बाद प्रकाश में आयी, लेकिन मानव शरीर के उनके अध्ययन क्रांतिकारी थे और आधुनिक शरीर रचना विज्ञान की नींव बन गए. लिओनार्दो दा विंसी अपने वैज्ञानिक प्रयोगों, आविष्कारों और कलात्मक विचारों के बारे में नोटबुक में लिखते थे. उनके नोटबुक के 15,000 से अधिक पन्ने सुरक्षति जतन किये गए.

उन्होंने उनके कुछ नोट्स पर उल्टा लिखाण भी किया था, इसलिए आप केवल शीशे में देखते हुए उन्हें पढ़ सकते हैं. कुछ लोगों का मानना है कि उन्होंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि वह चिंतित थे कि उनके प्रतिद्वंद्वी उनके विचारों को चुरा लेंगे. 

लिओनार्दो दा विंसी ने 50 साल की आयु में घर वापसी की, जब सेफोर्ज़ा परिवार ने सत्ता का अपना शासन खो दिया, और फ्रांसीसी ने मिलान शहर पर आक्रमण किया. जब उन्होंने मिट्टी के विशाल घोड़े की मूर्ति को देखा, तो उन्होंने इसे लक्ष्य अभ्यास के लिए इस्तेमाल किया. लिओनार्दो दा विंसी को अपनी पत्रिकाओं की तरह मिलान शहर को निर्धनता के साथ छोड़ना पड़ा और अपनी कला के सभी कार्यों को पीछे छोड़ देना पड़ा. 

उन्होंने जगह-जगह जाकर यात्रा करने का फैसला किया, और एक बार फिर इटली के आसपास सैन्य हथियारों के लिए अपने विचारों को प्रदर्शित करने की कोशिश करते रहे. उन्होंने ‘वेनिस’ के शासक (The Duke of Venice) को अपने आविष्कार दिखाएं, जिसमें पानी के भीतर सांस लेने के लिए स्नॉर्कलिंग सूट (Snorkeling Suit) भी शामिल था जो वास्तव में काम करता था. यहां तक कि, उनके पास योजना थी कि इंसान कैसे उड़ सकता है, या समुद्र के तल पर कैसे चल सकते है. ध्यान रखें, यह ऐसा समय था जब लोगों के पास समय जानने या बताने के लिए घड़ी भी नहीं थी.

जबकि उनके सभी विचार अद्भुत थे, और वे अपने समय से बहुत आगे थे, लेकिन ‘वेनिस’ के शासक को इनमें से किसी भी आविष्कार की आवश्यकता नहीं थी. दा विंसी को अनिच्छा से फ्लोरेंस शहर वापस जाने के लिए मजबूर किया गया था, और उन्हें डर था कि हर कोई अभी भी उनकी खराब प्रतिष्ठा को याद करता होगा. 

प्रतिद्वंद्विता: लियोनार्डो दा विंची बनाम माइकल एंजेलो (Rivalry: Leonardo Da Vinci vs. Michelangelo)

लेकिन यह वास्तव में इससे भी बदतर था, क्योंकि उस समय तक, लोग लिओनार्दो दा विंसी के नाम को भूल गए थे, और शहर में एक नए प्रतिभावान का उदय हो चुका था जिसका नाम था ‘माइकल एंजेलो डी लोदोविको बुओनरोट्टी सिमोनी’ (Michelangelo di Lodovico Buonarroti Simoni). लेकिन दुनिया उन्हें ज्यादातर ‘माइकल एंजेलो’ (Michelangelo) के नाम से जानती है. वह उस समय केवल 26 वर्ष के थे.

चूंकि फ्लोरेंस शहर में कला की दुनिया बेहद प्रतिस्पर्धी हो गई थी, और इसका मतलब यह था कि अब लिओनार्दो को काम खोजने के लिए संघर्ष करना होगा. इसलिए लिओनार्दो को माइकल एंजेलो से नफरत थी. दा विंसी स्पष्ट रूप से माइकल एंजेलो से ईर्ष्या करते थे और उसे बदनाम करने के कारण खोजते थे. उन्होंने अपनी पत्रिका में इस बारे में क्रोधपूर्वक लिखा की उन्हें कैसे बोध हुआ कि माइकल एंजेलो एक नीच और बदनाम व्यक्ति है. 

दा विंसी के अधिकांश चित्रों में आपको जो लंबी दाढ़ी दिखाई देती है, उसके बावजूद, उन्होंने वास्तव में अपने युवा अवस्था में वह हमेशा साफ-सुथरे थे और बेहतरीन कपड़े पहने थे. यहां तक कि उनके पास पेशेवर संगीतकार भी थे जो ग्राहकों के लिए संगीत बजाया करते थे जब वे अपने तसवीर बनवाने के लिए बैठा करते थे, और पूरी प्रक्रिया मानो किसी लग्जरी स्पा में जाने जैसा महसूस होती थी. 

दूसरी ओर, माइकल एंजेलो, अपनी कला के लिए दा विंसी से बिलकुल विपरीत दृष्टिकोण रखते थे. वह अपने काम पर इतना ध्यान केंद्रित करते थे, कि वह कुछ-कुछ दिनों तक दाढ़ी बनाना भूल जाते थे और अपनी दाढ़ी बढ़ने देते थे. उनके मूर्ति-काम करने के पश्चात पुरे घर में पत्थर और धूल जम जाती थी, और यह ग्राहकों के लिए एक आरामदायक जगह की तुलना में एक कार्यशाला की तरह कहीं अधिक था.

दोनों कलाकार एक दूसरे को गहराई से नापसंद किया करते थे और यहां तक कि सार्वजनिक रूप से लड़ाई-झगड़े पर उतर आते थे. दा विंसी, गुप्त रूप से, लिखाण के लिए घर जाते थे कि वह बूढ़े होने पर कितना उदास महसूस करते है और भय और चिंता ने उन्हें कितना व्यथित कर दिया है. 

फ्लोरेंस शहर के कला जगत में दा विंसी अब अपनी ख़्याति को सुरक्षित नहीं रख सकते थे, और उन्होंने आखिरी बार शस्त्रास्त्र की रचना में अपनी किस्मत आजमाने का फैसला किया.

लिओनार्दो दा विंसी को ‘सेसारे बोर्गिया’ द्वारा नियुक्त किया गया था (Leonardo da Vinci was employed by Cesare Borgia)

पोप अलेक्जेंडर (Pope Alexander) की एक अवैध संतान थी जिसका नाम ‘सेसारे बोर्गिया’ (Cesare Borgia) था. कुछ लोग कहते हैं कि वह एक महान सेनानी था, जबकि अन्य लोग कहते हैं कि बोर्गिया एक रक्तपिपासु शासक था, जिसने अपने रास्ते में आने वाले हर एक व्यक्ति को मार दिया. दा विंसी ने बोर्गिया को अपने रेखाचित्र भेजे, और अंत में, किसी ने दा विंसी के हथियारों के लिए हां कहा. 

दा विंसी, सिजेरो बोर्गिया के मुख्य अभियंता बन गए, और उन्होंने शहरों के मीनारों, हथियारों और नक्शे का निर्माण किया. उन्होंने आक्रमण करने की ‘विहंगम दृश्य’ पर आधारित एक योजना बनाई, जो उस समय के लिए बेहद क्रांतिकारी थी. दा विंसी को वह सब कुछ मिला जो वह चाहते थे, लेकिन यह उस कीमत पर हासिल हुआ जिसकी उन्होंने कभी उम्मीद नहीं की थी.

घातक हथियारों को बनाने के लिए बोर्गिया का मुख्य उद्देश्य अधिक से अधिक दुश्मनों को मौत के घाट उतारना था. इस बिंदु तक, युद्ध का विचार लिओनार्दो दा विंसी के लिए केवल एक अवधारणा थी, और उन्हें युद्ध में जाने वाले शूरवीरों की कहानियां मजेदार लगती थी. अपने जीवन में पहली बार, दा विंसी ने वास्तव में देखा कि एक खूनी लड़ाई कैसी दिखती है, और उसे संभालना कितना भीषण होता है. 

उन्होंने लिखा है, “वास्तव में, मनुष्य जानवर से अधिक बर्बर है, क्योंकि हमारी क्रूरता उनके मुकाबले अधिक है. हम दूसरों की मौत से जीते हैं.” उन्हें सबसे बुरा तब महसूस हुआ जब बोर्गिया ने दा विंसी के करीबी दोस्तों में से एक की मृत्यु का आदेश दिया. लिओनार्दो दा विंसी रात के घोर अंधेरे में चुपचाप बोर्गिया को छोड़कर चले गए और फ्लोरेंस शहर में वापस आ गए, जहां वह तस्वीरों और चित्रकारी की शांतिपूर्ण जीवन में लौट आए.

लिओनार्दो दा विंसी की सबसे प्रसिद्ध पेंटिंग मोना लिसा (Leonardo da Vinci’s most famous painting Mona Lisa)

आयुध निर्माण के बाद लिओनार्दो दा विंसी ने सेवानिवृत्ति के दिनों में ‘द मोना लिसा’ (The Mona Lisa) को चित्रित किया था, और कोई भी निश्चित रूप से नहीं जानता कि वह वास्तव में कौन थी. वह कौन है, या वह क्या प्रतिनिधित्व कर रही थी, इसके बारे में कई सिद्धांत प्रसिद्ध हैं, लेकिन इसकी पुष्टि आज तक नहीं की गई है.

बाकि सभी चित्रों के विपरीत जिन्हें दा विंसी ने बनाया और बेच दिया, उन्होंने ‘मोना लिसा’ के चित्र को जीवनभर अपने पास संभालकर रखा. वैसे तो यह तस्वीर उनके कला का एक टुकड़ा था जिसे उन्होंने सिर्फ अपने लिए चित्रित किया था, लेकिन वह इस तस्वीर में लगातार बदलाव करते रहते थे, क्योंकि उन्होंने कभी महसूस नहीं किया कि तस्वीर पूरी तरह से बनकर तैयार है.

अपनी सेवानिवृत्ति के दौरान, उन्होंने मनुष्यों के लिए विशाल पंखों का निर्माण शुरू किया, इस उम्मीद में कि यह लोगों को उड़ान भरने में मददगार होंगे. “मनुष्य के लिए पंख होंगे. यदि यह मेरे द्वारा पूरा नहीं किया जाता है, तो यह किसी दिन, किसी और के द्वारा पूरा किया जाएगा ”. यह आमतौर पर बताई गई कहानी है कि इन पंखों के साथ उड़ान भरने का प्रयास करते समय, कोई व्यक्ति गिर गया और उसका पैर टूट गया था. इस असफल प्रयास के बाद, उन्होंने एक ऐसी मोटर डिजाइन की, जो पंखों को फड़फड़ाने में सहायक थी, लेकिन इसने कभी ठीक से काम नहीं किया.

हालांकि, उन्होंने अंततः सबसे पहला पंख बनाया जिसे हम आधुनिक दिन के हवाई जहाज में बहुत उपयोग करते हैं. इतने सारे आविष्कारों के पश्चात भी, लिओनार्दो दा विंसी अभी तक दुनिया भर में प्रसिद्ध नहीं थे. उन्होंने किताबें प्रकाशित करने का इरादा किया था, लेकिन वह वास्तव में कभी इसके साथ जुड़े नहीं रहे. 

जैसा कि हमने पहले उल्लेख किया है, उन्होंने विभिन्न विषयों पर 15,000 से अधिक पन्नों का लिखाण और चित्रण किया है, लेकिन वे एक पूर्णतावादी थे. इसलिए उन्होंने अधिक से अधिक जानकारी जोड़ना जारी रखा क्योंकि उन्हें कभी नहीं लगा कि उनका काम पूरा हो गया है. इन दस्तावेजों में, दाढ़ी वाले एक बूढ़े व्यक्ति के कई रेखाचित्र शामिल हैं. लोगों का मानना है कि यह लिओनार्दो दा विंसी का अपना चित्र था, लेकिन यह कोई भी निश्चित रूप से नहीं जानता है.

हालांकि, इस चित्र का उपयोग उन्हें लोकप्रिय संस्कृति में चित्रित करने के लिए किया जाता है, और इस तरह से आज उन्हें याद किया जाता है. 

फ्रांस के सम्राट फ्रांसिस प्रथम, वर्षों तक दा विंसी के कलाकृतियों को इकट्ठा करते रहे, और सम्राट ने दा विंसी को अपनी हवेली में रहने के लिए आमंत्रण के तौर पर एक पत्र भी लिखा. वह फ्रांस जाने के लिए सहमत हो गए, और जब वह 65 वर्ष के थे, तब उन्हें एक शारीरिक आघात का सामना करना पड़ा, जिससे उनकी बांह में लकवा मार गया. सम्राट का महल उनकी आरामदायक सेवानिवृत्ति बन गया, और उन्हें सबसे अच्छी चिकित्सा देखभाल दी गई. 

वर्ष 1519 में जब उनकी मृत्यु हुई, तो उन्होंने ‘मोना लिसा’ और अपनी सभी स्केचबुक और पत्रिकाओं को उनकी निष्ठा के लिए छोड़ दिया. एक अवैध संतान के रूप में जन्मे लिओनार्दो दा विंसी एक राजा की तरह मृत्यु को प्राप्त हुए.

लेकिन शायद लिओनार्दो के बारे में सबसे शानदार बात यह थी कि वे निरीक्षण, सावधानीपूर्वक वर्णन और प्राकृतिक दुनिया का सुंदर चित्रण करने की क्षमता रखते थे. उनका जीवन हमेशा उनके काम के लिए समर्पित रहा है, और वह दुनिया भर के लोगों के लिए प्रेरणादायक काम करते रहे हैं, जिसके लिए आगामी सदिया भी लिओनार्दो दा विंसी की आभारी होगी.

कौन थे लाफिंग बुद्धा (Laughing Buddha)?

जानिये टेडी बेयर (Teddy bear) का आविष्कार कब, कहा और कैसे हुआ?

अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी करे, हमारे अगले Post प्राप्त करने के लिए हमें करे और हमारा Facebook page करे, अपने सुझाव हमें Comments के माध्यम से दे.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *