रूबिक्स क्यूब के आविष्कार की दिलचस्प कहानी – Interesting story of the invention of the Rubik’s Cube

Interesting story of the invention of the Rubik's Cube - रूबिक्स क्यूब के आविष्कार की दिलचस्प कहानी

Rubik’s Cube के आविष्कार की दिलचस्प कहानी

दोस्तों जैसा की हम जानते है की Rubik’s Cube एक 3D कॉम्बिनेशन वाली पजल गेम है. यह एक घन-आकार का उपकरण होता है, जो छोटे क्यूब के टुकड़ों से बना होता है, जिसमें छह रंग होते हैं. हम में से कई लोगों ने इसे कभी न कभी खेला होगा और कुछ लोगों के लिए तो यह एक पसंदीदा खेल भी होगा. Rubik’s Cube पजल की शुरुआत कुछ क्रमरहित, टालमटोल, अव्यवस्थित प्रारूप Cube से की जाती है जिसे घुमा-फिराकर अपने मूल पैटर्न पर वापस लाना होता है जिसमें सभी तरफ एक ही रंग का क्रम होता है. इस मजेदार खेल का आविष्कार भी रंजक तरीके से हुआ था. 

Rubik’s Cube का आविष्कार किसने किया 

Rubik’s Cube का आविष्कार हंगरी के बुडापेस्ट शहर में रहने वाले Erno Rubik नामक एक अभिनव कल्पनाओं के तिकड़मबाज व्यक्ति ने किया है. Erno Rubik पेशे से गणित के प्रोफेसर है. एक दिन वह अपने छात्रों को तीन आयामी समस्याओं को समझने में मदद करना चाहते थे जिसके लिए उन्होंने एक जुगाड़ बनाया, और इसीका नतीजा था Rubik’s Cube! एर्नो रूबिक ने 1974 में Rubik’s Cube की सबसे पहली प्रतिकृति बनाई. 

कैसे बना सबसे पहला Rubik’s Cube

Erno Rubik ने वास्तुकला के जरिये अपने छात्रों के लिए एक चलायमान उपकरण बनाने की ठान ली. Erno Rubik अपने कौशल से ऐसी प्रतिकृति बनाई जिसे दुनिया ने पहले कभी नहीं देखा था. इसे बिना टूटे मरोड़ा और मोड़ा भी जा सकता था. इसके सभी छह बाजुओं पर 54 अलग-अलग रंगीन स्टिकर जोड़कर पजल को अपना वास्तविक रूप दिया गया. मजेदार बात है की जब Erno Rubik ने अपना पहला क्यूब बनाया, तो इसे हल करने में उन्हें एक महीने का समय लगा था. उस समय, उन्हें पता नहीं था उनका यह आविष्कार दुनिया में इतना लोकप्रिय बन जायेगा. Erno Rubik के इस ‘Magic Cube’ को हंगेरियन भाषा में ‘Buvos Kocka’ कहा जाता है. 1975 में Erno Rubik ने एक पजल के रूप में ‘Magic Cube’ का पेटेंट भी करा लिया.

Rubik’s Cube दुनिया भर में कब और कैसे पहुंचा

Magic Cube को छोटे पैमाने पर निर्मित किया जाने लगा और यह 1970 के दशक के अंत में हंगरी में अधिक लोकप्रिय हो गया. Magic Cube के लोकप्रियता को देखते हुए Erno Rubik को अपने आविष्कार की क्षमता का एहसास हुआ और वह इसे दुनिया भर में पहुंचाना चाहते थे. लेकिन – 1970 के दशक में साम्यवादी हंगरी में आयात और निर्यात को काफी हद तक नियंत्रित किया गया था. Erno Rubik अपने Magic Cube के प्रचार के लिए खिलौने के अंतर्राष्ट्रीय मेलों का सहारा लिया. 

Magic Cube का प्रदर्शन लंदन, पेरिस और न्यूयॉर्क सहित कई अंतर्राष्ट्रीय खिलौने के मेलों में किया गया था. सितंबर 1979 में, जर्मनी के एक शहर न्यूरेमबर्ग  में खिलौनों के विशेषज्ञ Tom Kremer ने Magic Cube पहेली को देखा और वह तुरंत क्यूब की शक्ति और क्षमता को पहचान गए. Tom Kremer की योजना क्यूब के व्यवसायीकरण और इसे दुनिया भर में बेचने की थी; और उन्होंने Erno Rubik के साथ बातचीत करके Magic Cube दुनिया भर में वितरण अधिकार पर हस्ताक्षर किये. 

Rubik’s Cube को इसका नाम कैसे मिला

Magic Cube के प्रति Tom Kremer के जुनून और विश्वास ने Magic Cube को वितरित करने के लिए सुयोग्य टॉय कंपनी को आश्वस्त किया. लेकिन वे इसमें एक महत्वपूर्ण परिवर्तन चाहते थे… एक नया नाम! और फिर Rubik’s Cube का नामकरण हुआ. Magic Cube को Rubik’s Cube यह वैश्विक नाम 1980 में प्राप्त हुआ और बाकी इतिहास है. नए Rubik’s Cube के मॉडल का वजन पहले के मॉडल से आधा वजनी बना दिए गए जो कई गुना ज्यादा तेजी से हल किया जा सकता था.

जानिये टेडी बेयर (Teddy bear) का आविष्कार कब, कहा और कैसे हुआ?

अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी करे, हमारे अगले Post प्राप्त करने के लिए हमें करे और हमारा Facebook page करे, अपने सुझाव हमें Comments के माध्यम से दे.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *