ब्लू जींस का इतिहास – डेनिम जींस की उत्पत्ति – History of Blue Jeans – Origin of Denim Jeans

History of Blue Jeans - Origin of Denim Jeans - ब्लू जींस का इतिहास - डेनिम जींस की उत्पत्ति

जीन्स दुनिया भर में एक बहुत लोकप्रिय पोशाक है जो सर्वव्यापी है, हर दिन जीन्स के लाखों पोशाक बनाए, बेचे और पहने जाते हैं. स्टाइलिश और फैशनेबल व्यक्तियों के बीच जीन्स को बहुत पसंद किया जाता है. लेकिन जीन्स इतनी लोकप्रिय क्यों है और पहली बार किस उद्देश्य के लिए बनाई गई थी?

इससे पहले कि हम जाने कि जीन्स हमारे लिए महत्वपूर्ण क्यों है, आइए पहले जानते हैं कि “जीन्स” की व्याख्या क्या है, क्योंकि पिछले कुछ सौ सालों में यह शब्द संदर्भ में बदल गया है.

जैसा कि फैशन विश्वकोश द्वारा विस्तृत किया गया है, “जीन्स” शब्द 1600 के दशक से अस्तित्व में आया है. जीन्स का वर्णन कठिन परिश्रम (काम) करने वाले पुरुषों द्वारा परिधान करने योग्य वस्त्रों और पोशाक के रूप में होता है. चूंकि इन कपड़ों को बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला कपड़ा अक्सर इटली के जेनोआ (Genoa) क्षेत्र से आता था, इसलिए इसे आमतौर पर “जीन” (Jean) कहा जाता था. फ्रांस के निम्स (Nimes) क्षेत्र के बुनकरों ने इस कपड़े को दोहराने की कोशिश की और यह अंततः इसे “डेनिम” (Denim) के रूप में जाना जाने लगा जो “de Nimes” शब्द से बनता है और इसका अर्थ है ‘निम्स क्षेत्र से’ (from Nimes). 

तो क्या आधुनिक जीन्स 16 वीं शताब्दी के श्रमिकों द्वारा कठिन काम के समय पहने जाने वाले पतलून से अलग है? खैर, महत्वपूर्ण अंतर यह है कि आधुनिक जीन्स को एक साथ कैसे कसा जाता है, जवाब रिवेट (Rivet) के माध्यम से. रिवेट जीन्स के लिए एक अपेक्षाकृत नया जोड़ हैं और वे कपड़ों की लंबी उम्र का कारण भी हैं.

आप जो सोचते हैं, उसके विपरीत, अक्सर पीछे की जेब पर पाए जाने वाले सिलाई पैटर्न के विपरीत, रिवेट केवल दिखावे के लिए नहीं होते हैं, वे रणनीतिक रूप से उन स्थानों पर लगाए जाते हैं जहां कपड़े पर सबसे अधिक तनाव पड़ता हैं, जैसे कि जेब.

भारतीय राज्यों के नाम कैसे रखे गए? How were Indian states named?

कठिन काम पर उपयोग में जाये जाने वाले पतलून की सिलाई को सुदृढ़ करने के लिए धातु के रिवेट का उपयोग करने का विचार 19 वीं शताब्दी के दौरान नेवादा (Nevada) में एक सेल्समैन जैकब डेविस (Jacob Davis) के दिमाग की उपज है. डेविस अपने क्षेत्र के खनिकों और श्रमिकों को कपड़े और सामान्य आपूर्ति बेचकर कमाया करते थे. 

किंवदंती यह है कि एक दिन एक खनिक की पत्नी डेविस के पास आती है, और शिकायत करती है की अक्सर काम पर उसके पती के पतलून की जेब फट जाती है और उन्हें मजबूत बनाने के लिए डेविस को कोई विकल्प खोजना चाहिए. डेविस की नजर अपने दुकान में रखे घोड़े की काठी पर पड़ी और उसी से  प्रेरणा प्राप्त करके धातु के रिवेट के साथ जेब और अन्य भागो को मजबूत करने के सरल विचार को रचा. 

डेविस द्वारा ग्राहकों की फटी हुई पैंट की समस्या को हल करने के लिए यह एक प्रशंसनीय काम था. कम समय में ही डेविस की “रिवेट वाली पैंट्स” स्थानीय लोगों काफी लोकप्रिय हो गयी और पैंट्स की मांग भी बढ़ गई.

डेविस अपने आविष्कार के प्रति सचेत थे और उन्होंने सोचा कि कोई उनके विचार को चुरा सकता है, इसलिए उन्होंने इसे पेटेंट करने की ठान थी. हालांकि, अपनी अल्पकालिक सफलता के बावजूद, इसे पूरा करने के लिए उनके पास पर्याप्त धन नहीं था. इसलिए, वह अंततः उत्पाद क्षेत्र के अग्रणी व्यक्ति लेवी स्ट्रॉस (Levi Strauss) के पास गए.

डेविस के समान स्ट्रॉस भी एक मूल यूरोपीय थे, जिसने अपने भाग्य को आजमाने और बनाने के लिए कई राज्यों की यात्रा की थी. यह जोड़ी एकसाथ आगे बढ़ने लगी, ओर स्ट्रॉस ने  डेविस को अन्य उत्पादों के साथ अपनी रिवेट पैंट बनाने के लिए आवश्यक सामग्री की आपूर्ति भी की.

मेक्सिको के बारे में रोचक जानकारी (Interesting information about Mexico)

बाद में, दोनों स्ट्रॉस के पैसे से 1873 में अपने रिवेट वाले पैंट पर पेटेंट के लिए सफलतापूर्वक आवेदन कर पाए. उसी वर्ष इस जोड़ी ने बड़े पैमाने पर पैंट का उत्पादन शुरू किया. उत्सुकता पूर्वक दोनों ने पहली बार जीन्स का उत्पादन शुरू किया, और उन्होंने दो किस्में (varieties) बनाई, ‘नीली डेनिम’ जिसे आज आसानी से किसी भी कपड़े की दुकान पर देखा जा सकता है, और दूसरे प्रकार को ‘डक कॉटन’ (duck cotton) कहा जाता था जो की कपड़े से बने कैनवास से अलग नहीं था. ‘डक कॉटन’ का उपयोग तम्बू और मालगाड़ी के आच्छादन बनाने के लिए किया जाता था. 

पहले के मुकाबले अब कंपनी अधिक लोकप्रिय साबित होने लगी थी और जल्द ही रिवेट वाले पैंट बेची जाने वाली एकमात्र कंपनी बन गई. कारण डेनिम ‘डक कॉटन’ की तुलना में दो गुना अधिक लोकप्रिय हुआ. डेनिम सफलता हासिल करने में सफल रहा क्योंकि डेनिम समय के साथ नरम हो जाता है और इसकी आकर्षक गुणवत्ता के कारण आप इसे पहनने की उम्मीद कर सकते हैं, और दूसरी बात, यह बहुत आकर्षक दिखता है.

डेनिम जीन्स मूल रूप से नीले रंग में आंशिक रूप से रंगे जाते थे क्योंकि अमेरिका में इंडिगो डाई काफी सस्ती और आसानी से उपलब्ध होती थी, लेकिन यह इंडिगो डाई काफी गहरे रंग के होने के कारण दाग को छिपाने के लिए भी पर्याप्त थी. इसके अलावा, प्रत्येक जीन्स को काफी काम मात्रा में डाई की जरूरत होती थी और डेनिम की बुनाई के साथ दूसरी ओर नहीं बिखरती थी. इसका मतलब है कि आपके पैरों को धुंधला करने वाले डाई का जोखिम प्रभावी रूप से शून्य था, जो फिर से, डेनिम के एक आकर्षक गुणवत्ता है. 

डेनिम जीन्स का एक तथ्य यह है कि डाई केवल जीन्स के बाहर से होने के कारण समय के साथ उसका रंग भी फीका हो जाता हैं क्योंकि डाई अनिवार्य रूप से कपडे से छूटने लगती है. यह डेनिम कपड़ों की एक और उच्च आकर्षक गुणवत्ता साबित हुई, जो आज भी लोकप्रिय हैं, कई लोग पहले से फीके रंग का विकल्प खरीदना पसंद करते हैं.

रिवेट वाले पैंट की दुनिया में होने वाली पहली और शायद सबसे बड़ी बात 1908 में लेवी के पेटेंट की समाप्ति थी, जिसमें दर्जनों नकल करने वालों को बाजार में दस्तक देने का मौका मिला. 

ये हैं दुनिया के सबसे पुराने पेड़ (These are the oldest trees in the world)

दूसरी बात, Cowboy (उत्तरी अमेरिका के चरवाहे) के विलक्षण जीवन शैली ने भी जीन्स को अपार लोकप्रियता हासिल करा दी थी. हालांकि, जीन्स के मजदूरों और ग्रामीण लोगों के साथ गहराई से जुड़ाव ने शुरू में डेनिम जीन्स पहनने के विचार से अधिक संपन्न लोगों को नहीं लुभाया, लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता गया, वैसे ही कुछ अमेरिकी लोगों में 1930 के दशक में जीन्स पहनने की ललक ने जोर पकड़ना शुरू कर दिया. 

तीसरी चीज़ जिसने डेनिम जीन्स को लोकप्रिय बनाने में मदद की, विशेष रूप से विदेशों में, वह 1940 और 1950 के दशक में सैनिकों के बिच जीन्स की लोकप्रियता थी, जो अक्सर ड्यूटी के दौरान उन्हें पहनना पसंद करते थे.

1950 के दशक में चौथी चीज जिसने युवा पीढ़ी में जीन्स परिधान को लोकप्रिय बनाया, वह थी पाश्चात्य फिल्मे जिस से युवाओं के बीच जीन्स की मांग बढ़ गई, और 1960 और 1970 के दशक के दौरान यह मांग जारी रही. 1980 के दशक में, युवाओं में जीन्स की रुचि अपने चरम पर पहुंच गई.

ये हैं दुनिया की सबसे विशाल घंटाये (These are the world’s largest bells)

अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी करे, हमारे अगले Post प्राप्त करने के लिए हमें करे और हमारा Facebook page करे, अपने सुझाव हमें Comments के माध्यम से दे.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *