भारत के ये 8 भूतिया रेलवे स्टेशन जो आपको डर का अहसास दिला सकते हैं.

8 haunted railway stations of India

भारतीय रेलवे, जो दुनिया के सबसे लंबे रेलवे नेटवर्क मे से एक है, यहां प्रति दिन पटरियों पर 12617 से भी ज्यादा ट्रेनें दौड़ती हैं, और रोज़ाना 2.3 करोड़ यात्री सफर करते हैं. क्या होगा अगर हम आपको बताएं की भारत में कुछ रेलवे स्टेशन ऐसे भी हैं जो भुतप्रेत से बाधित होने के लिए जाने जाते हैं. यहाँ हम भारत में मौजूद रेलवे स्टेशनों की एक पूरी सूची साझा कर रहे हैं जो कि प्रेत-बाधित हैं. याद रखें विज्ञान इन बातों को स्वीकार नहीं करता हैं , ये प्रेत-बाधित हैं क्योंकि स्थानीय लोग ऐसा मानते हैं. 

1. बेगुनकोडोर रेलवे स्टेशन, पश्चिम बंगाल 

बेगुनकोडोर रेलवे स्टेशन की स्थापना वर्ष 1960 में हुई थी. पश्चिम बंगाल का यह रेलवे स्‍टेशन भूतिया कहानियों के चलते 42 सालों तक बंद था. साल 1967 से ही इस रेलवे स्टेशन को बंद कर दिया गया था. बेगुनकोडोर के स्थानीय लोगों के अनुसार, 1967 मे एक रेलवे कर्मचारी ने एक महिला के भूत को देखे जाने का दावा किया था लेकिन लोगों ने इस बात को अनदेखा कर दिया, कुछ दिनों बाद जब स्टेशन मास्टर और उनके परिवार के शव उनके क्वार्टर मे पाए गए तो हड़कंप मच गया इस घटना से रेलवे के कर्मचारी और प्रवासियों मे डर का माहौल बन गया, बाद मे स्टेशन को बंद कर दिया गया. अगस्त 2009 मे, ममता बनर्जी सरकार द्वारा बेगुनकोडोर स्टेशन को यातायात के लिए खोलने का फैसला किया गया. हालाँकि, नियमित रूप से कुछ ट्रेनें यहाँ रुकती हैं, लेकिन सूर्यास्त के बाद यात्री स्टेशन का उपयोग करने से परहेज करते हैं.

2. रबिन्द्र सरोबर मेट्रो स्टेशन, पश्चिम बंगाल 

रबिन्द्र सरोबर कोलकाता का एक मेट्रो स्टेशन है. कहते हैं की यहां के ट्रैक पर कूद कर आत्महत्या करने वालों की आत्मा इधर-उधर भटकती रहती है. यहां रात 10:30 बजे अंतिम मेट्रो चलती है उसके बाद स्टेशन विरान हो जाता है, तब यहां कई तरह की अजीब सी आवाजें लोगों को सुनाई देती हैं. कई मुसाफिर और मेट्रो के ड्राइवरों ने भी दावा किया है की मेट्रो ट्रैक के बीच अचानक कोई धुँधला साया प्रकट होता है और पल में ही ग़ायब हो जाता है.

3. बरोग रेलवे स्टेशन, हिमाचल प्रदेश 

बरोग सुरंग के निकट मौजूद बरोग रेलवे स्टेशन शिमला मे स्थित एक छोटा रेलवे स्टेशन है. स्टेशन का नाम कर्नल एस बरोग ( Colonel S. Barog) के नाम पर रखा गया है. कर्नल बरोग ने ही यहा सुरंग का निर्माण किया था जो कुछ हद तक असफल साबित हुआ जिसकी वजह से उन्हे अन्य कर्मचारियों के सामने अपमानित होना पडता था. एक दिन जब वह सुरंग का निरीक्षण करने जा रहे थे, तब उन्होंने खुद को गोली मार ली. उसके बाद उनके शव को उसी सुरंग के पास दफ़ना दिया गया, जिसके बाद से यह कहा जाता है की कर्नल बरोग की आत्मा इसी स्टेशन के ईर्द-गिर्द घूमती रहती है.

4. चित्तूर रेलवे स्टेशन, आंध्र प्रदेश 

कहते है यहां एक सीआरपीएफ जवान की आत्मा भटकती रहती है जिनकी हत्या 31 अक्टूबर को केरल एक्सप्रेस मे ड्यूटी के वक़्त कर दी गई थी, बताया जाता है की आर पी एफ और टीटीई द्वारा की गई मारपीट मे उनकी मृत्यु हो गई, बादमे गंभीर हालत मे उन्हे चित्तूर रेलवे स्टेशन के पास ट्रेन से नीचे धकेल दिया गया था. 10 दिन तक अस्पताल मे जूझने के बाद उनकी मौत हो गई थी.

5. नैनी रेलवे स्‍टेशन, उत्तर प्रदेश 

यूपी के इलाहाबाद के पास स्थित नैनी रेलवे स्टेशन नैनी जेल से कुछ दूरी पर ही है. कहा जाता है की देश जब गुलामी मे था तब नैनी जेल मे  स्वतंत्रता सेनानियों को अंग्रेजों द्वारा खूब यातनाएँ दी जाती थी जिससे उनकी दुर्भाग्यपूर्ण मृत्‍यु हो गई थी, उन्ही सेनानियों की आत्‍माएं स्‍टेशन पर घूमती हैं. हालांकि, इनको आजतक किसी ने भी देखने का दावा तो नही किया लेकिन स्‍थानीय लोगों की मानें तो आत्‍माओं की उपस्थिति महसूस की जा सकती है.

6. लुधियाना रेलवे स्‍टेशन, पंजाब

लुधियाना स्‍टेशन भी भूत-प्रेत बाधित होने के लिए जाना जाता है. यहां स्‍टेशन पर आरक्षण प्रणाली का एक केबिन है जहा सुभाष नाम के एक अधिकारी नौकरी करते थे, उन्हें अपने काम से बहुत लगाव था. एक दिन इसी केबिन में सुभाष का देहांत हो गया. लोगों का मानना है की वह आज भी रोज काम पर आ जाते हैं. कहते है केबिन के सामने से गुजरने पर सुभाष की आत्मा पीठ पर चिकोटी काटती है. फ़िलहाल इस कमरे को हमेशा के लिए बंद कर दिया गया है.

7. द्वारका सेक्टर 9 मेट्रो स्टेशन , दिल्ली

यहां से गुजरने वाले लोगों का मानना है की यहां एक भूतनी का डेरा है, जो हमेशा सफेद साड़ी पहनी दिखती है. वही कुछ लोगों ने दावा किया है की यहां रात को गाड़‍ियों के पीछे एक महिला का साया दिखाई देता है.

8. एमजी रोड मेट्रो स्‍टेशन, दिल्‍ली

गुड़गांव के इस मेट्रो स्‍टेशन के बारे मे कहा जाता है की कुछ साल पहले एक दुर्घटना मे यहां एक महिला की मौत हुई थी. लोगों का मानना है उसकी आत्मा आज भी यहां भटकती है.

अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी करे, हमारे अगले Post प्राप्त करने के लिए हमें करे और हमारा Facebook page करे, अपने सुझाव हमें Comments के माध्यम से दे.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *