चाणक्य नीति ( हिंदी में ): तीसरा अध्याय – Chanakya Neeti (In Hindi): Chapter Third

Chanakya Neeti (In Hindi)

१. इस दुनिया मे ऐसा किसका घर है जिस पर कोई कलंक नहीं, वह कौन है जो रोग और दुख से मुक्त है. सदा सुख किसे प्राप्त होता है?

1. In this world, whose family is there without blemish? Who is free from sickness and grief? Who is forever happy?

२. मनुष्य के कुल की पहचान उसके आचरण से होती है, मनुष्य के बोलने के ढंग से उसके देश की पहचान होती है, उसका सम्मान उसके वैभव और प्रतिभा से होता है, एवं उसके शरीर का गठन उसके भोजन से बढ़ता है. 

2. A man’s descent may be discerned by his conduct, his country by his pronunciation of language, his friendship by his warmth and glow, and his capacity to eat by his body.

३. अपनी कन्या का विवाह किसी अच्छे परिवार में करना चाहिए. अपने पुत्र  को अच्छी शिक्षा देनी चाहिए, शत्रु को आपत्ति और संकट में डालना चाहिए, एवं मित्रों को धर्म कर्म में लगाना चाहिए.

3. Give your daughter in marriage to a good family, engage your son in learning, see that your enemy comes to grief, and engage your friends in dharma. (Krsna consciousness).

४. एक दुर्जन और एक सर्प मे यह अंतर है की साप तभी डंख मारेगा जब उसकी जान को खतरा हो लेकिन दुर्जन पग पग पर हानि पहुंचाने की कोशिश करेगा.

4. Of a rascal and a serpent, the serpent is the better of the two, for he strikes only at the time he is destined to kill, while the former at every step.

५. राजा-महाराजा अपनी संगत में हमेशा अच्छे कुल के लोगो को इसलिए रखते है क्योंकि ऐसे लोग ना आरंभ मे, ना बीच मे और ना ही अंत मे साथ छोड़कर जाते है.

5. Therefore kings gather round themselves men of good families, for they never forsake them either at the beginning, the middle or the end.

६. जब प्रलय का समय आता है तो समुद्र भी अपनी मर्यादा छोड़कर किनारों को छोड अथवा तोड जाते है, लेकिन सज्जन पुरुष प्रलय के समान भयंकर आपत्ति एवं विपत्ति में भी अपनी मर्यादा नहीं बदलते.

6. At the time of the pralaya (universal destruction) the oceans are to exceed their limits and seek to change, but a saintly man never changes.

७. मूर्खो के साथ मित्रता नहीं रखनी चाहिए उन्हें त्याग देना ही उचित है, क्योंकि प्रत्यक्ष रूप से वे दो पैरों वाले पशु के समान हैं, जो अपने धारदार वचनो से वैसे ही हृदय को छलनी करता है जैसे अदृश्य कांटा शरीर में घुस कर छलनी करता है .

7. Do not keep company with a fool for as we can see he is a two-legged beast. Like an unseen thorn he pierces the heart with his sharp words.

८. सौंदर्य और यौवन से संपन्न तथा कुलीन परिवार में जन्म लेने पर भी विद्याहीन पुरुष पलाश के फूल के समान है जो सुन्दर तो है लेकिन खुशबु रहित है.

8. Though men be endowed with beauty and youth and born in noble families, yet without education they are like the palasa flower, which is void of sweet fragrance.

९. कोयल की सुंदरता उसके गायन मे है. एक स्त्री की सुंदरता उसके अपने परिवार के प्रति समर्पण मे है. एक बदसूरत आदमी की सुंदरता उसके ज्ञान मे है तथा एक तपस्वी की सुंदरता उसकी क्षमाशीलता मे है.

9. The beauty of a cuckoo is in its notes, that of a woman in her unalloyed devotion to her husband, that of an ugly person in his scholarship, and that of an ascetic in his forgiveness.

१०. कुल की रक्षा के लिए एक सदस्य का बलिदान दें, गांव की रक्षा के लिए एक कुल का बलिदान दें, देश की रक्षा के लिए एक गांव का बलिदान दें, आत्मा की रक्षा के लिए देश का बलिदान दें. (यहां अर्थ है, यदि आप किसी भ्रष्ट देश में हो तो अपने आत्म सम्मान के लिए भ्रष्ट देश को त्याग दे)

10. Give up a member to save a family, a family to save a village, a village to save a country, and the country to save yourself.

११. जो उद्यमशील हैं, वे गरीब नहीं हो सकते,

जो सदा भगवान को याद करते है उन्हे पाप नहीं छू सकता.

जो मौन रहते है वो झगडो मे नहीं पडते,

जो जागृत रहते है वो निर्भय होते है.

11. There is no poverty for the industrious. Sin does not attach itself to the person practicing japa (chanting of the holy names of the Lord). Those who are absorbed in maunam (silent contemplation of the Lord) have no quarrel with others. They are fearless who always remain alert.

१२. अत्यधिक सुंदरता के कारण सीताहरण हुआ, अत्यंत घमंड के कारण रावण का अंत हुआ, अत्यधिक दान देने के कारण राजा बाली को बंधन में बंधना पडा, अतः सर्वत्र अति को त्यागना चाहिए. (अति सर्वत्र वर्जयेत)

12. Sitaharan took place due to excessive beauty, Ravana came to an end due to excessive boasting, King Bali had to be tied in bondage due to excessive endowment, hence excess should be discarded. (Excess of everything is bad)

१3. शक्तिशाली लोगों के लिए कौन सा कार्य कठिन है ? व्यापारिओं के लिए कोनसी जगह दूर है, विद्वानों के लिए कोई देश विदेश नहीं है, मधुभाषियों का कोई शत्रु नहीं होता. 

13. What is too heavy for the strong and what place is too distant for those who put forth effort? What country is foreign to a man of true learning? Who can be inimical to one who speaks pleasingly?

१४. जिस तरह सारा वन केवल एक ही पुष्प एवं सुगंध भरे वृक्ष से महक जाता है उसी तरह एक ही गुणवान पुत्र पूरे कुल का नाम बढाता है.

14. As a whole forest becomes fragrant by the existence of a single tree with sweet-smelling blossoms in it, so a family becomes famous by the birth of a virtuous son.

१५. जिस प्रकार केवल एक सुखा हुआ जलता वृक्ष संपूर्ण वन को जला देता है उसी प्रकार एक कुपुत्र पूरे कुल के मान, मर्यादा और प्रतिष्ठा को नष्ट कर देता है.

15. As a single withered tree, if set aflame, causes a whole forest to burn, so does a rascal son destroy a whole family.

१६. केवल एक विद्वान एवं सदाचारी पुत्र के कारण संपूर्ण परिवार वैसे ही खुशहाल रहता है जैसे चंद्रमा के निकलने पर रात्रि जगमगा उठती है.

16. As night looks delightful when the moon shines, so is a family gladdened by even one learned and virtuous son.

१७. ऐसे अनेक पुत्र किस काम के जो दुःख और निराशा पैदा करे. इससे तो वह एक ही पुत्र अच्छा है जो संपूर्ण घर को सहारा और शांति प्रदान करे.

17. What is the use of having many sons if they cause grief and vexation? It is better to have only one son from whom the whole family can derive support and peacefulness.

१८. पांच साल तक पुत्र को लाड एवं प्यार से पालन करना चाहिए, दस साल तक उसे छडी की मार से डराए. लेकिन जब वह १६ साल का हो जाए तो उससे मित्र के समान व्यवहार करे.

18. Fondle a son until he is five years of age, and use the stick for another ten years, but when he has attained his sixteenth year treat him as a friend.

१९. वह व्यक्ति सुरक्षित रह सकता है जो निम्न परिस्थितियां उत्पन्न होने पर भाग जाए.

(१) भयावह आपदा.

(२) विदेशी आक्रमण

(३) भयंकर अकाल

(४) दुष्ट व्यक्ति का संग.

19. He who runs away from a fearful calamity, a foreign invasion, a terrible famine, and the companionship of wicked men is safe.

२०. जो व्यक्ति निम्नलिखित बातें अर्जित नहीं करता वह बार बार जन्म लेकर मरता है.

(१) धर्म

(२) अर्थ

(३) काम

(४) मोक्ष

20. He who has not acquired one of the following: religious merit (dharma), wealth (artha), satisfaction of desires (kama), or liberation (moksa) is repeatedly born to die.

२१. धन की देवी “लक्ष्मी” स्वयं वहां चली आती है जहां…

(१) मूर्खों का सम्मान नहीं होता.

(२) अनाज का अच्छे से भणडारण किया जाता है.

(३) पति-पत्नी मे आपस मे लडाई-झगडा नहीं होता है.

21. ”Lakshmi”, the Goddess of wealth, comes of Her own accord where fools are not respected, the grain is well stored up, and the husband and wife do not quarrel.

चाणक्य नीति ( हिंदी में ): द्वितीय अध्याय – Chanakya Neeti (In Hindi): Chapter Second

चाणक्य नीति ( हिंदी में ): चौथा अध्याय – Chanakya Neeti (In Hindi): Chapter Fourth

अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी करे, हमारे अगले Post प्राप्त करने के लिए हमें करे और हमारा Facebook page करे, अपने सुझाव हमें Comments के माध्यम से दे.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *