भारत रत्न पुरस्कार विजेताओं की सूची – Bharat Ratna Award Winners List

भारत रत्न पुरस्कार विजेताओं की सूची - Bharat Ratna Award Winner List

भारत रत्न पुरस्कार के बारे में जानकारी – Bharat Ratna Award In Hindi

भारत गणराज्य के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार (Highest civilian award) को भारत रत्न (Bharat Ratna) के रूप में जाना जाता है और यह मानव प्रयास के किसी भी क्षेत्र में असाधारण राष्ट्रीय सेवा (Extraordinary national service) के लिए दिया जाता है. इन सेवाओं में कला, साहित्य, विज्ञान, सार्वजनिक सेवा क्षेत्र और खेल क्षेत्र भी शामिल हैं.

“भारत रत्न” पुरस्कार की स्थापना 2 जनवरी 1954 को भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद (Rajendra Prasad) द्वारा की गई थी. यह सम्मान भारत में लिंग, जाति, व्यवसाय, पद या उम्र के भेदभाव के बिना किसी भी व्यक्ति को प्रदान किया जाता है. 

मूल रूप से इस सम्मान के पदक का डिजाइन एक 35 मिमी गोलाकार स्वर्ण पदक था जिसके सामने वाले भाग पर एक सूर्य, ऊपर हिंदी में “भारत रत्न” और नीचे एक पुष्पांजलि और पीछे राष्ट्रीय प्रतीक और ध्येय वाक्य (मोटो) लिखा होता था.

बाद में इस पदक के डिजाइन को तांबे के बने पीपल के पत्ते पर प्लेटिनम से बने चमकदार सूरज से बदल दिया गया. नीचे चांदी में “भारत रत्न” लिखा होता है और इसे सफेद फीते के साथ गले में पहनाया जाता है.

शुरुआत में खेलों (Sports) को भारत रत्न पुरस्कार की सूची में शामिल नहीं किया गया था लेकिन बाद में इसे सूची में शामिल कर लिया गया.

अन्य भूषण की तरह, इस सम्मान को नाम के साथ एक उपाधि के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है.

प्रारंभ में यह सम्मान मरणोपरांत (Posthumously) देने का कोई प्रावधान नहीं था, लेकिन बाद में वर्ष 1955 में इस प्रावधान को जोड़ा गया. इसी प्रावधान के चलते कई नामी हस्तियों को मरणोपरांत भी यह सम्मान दिया गया है.

अब तक 12 व्यक्तियों को यह सम्मान मरणोपरांत दिया जा चुका है, लेकिन सुभाष चंद्र बोस (Subhash Chandra Bose) को घोषित सम्मान वापस लेने के बाद मरणोपरांत प्राप्तकर्ताओं की संख्या 11 मानी जा सकती है.

“भारत रत्न” एक वर्ष में अधिकतम तीन नामांकित व्यक्तियों को प्रदान किया जा सकता है और प्रधानमंत्री की सलाह पर राष्ट्रपति द्वारा नामित किया जाता है.

भारत रत्न पुरस्कार विजेताओं की सूची – Bharat Ratna Award Winner List In Hindi

1954 से अब तक देश के 48 लोगों को इस गौरवपूर्ण और सर्वोच्च नागरिक सम्मान (Bharat Ratna Award) से नवाजा जा चुका है. आइए संक्षेप में उन महापुरुषों और महिलाओं के बारे में जानते हैं जिन्हें यह सम्मान मिला है.

#1. चक्रवर्ती राजगोपालाचारी (Chakravarti Rajagopalachari):

(1954 में भारत रत्न से सम्मानित)

चक्रवर्ती राजगोपालाचारी का जन्म 10 दिसंबर 1878 को मद्रास प्रांत के सलेम जिले में हुआ था. उन्हें एक प्रसिद्ध राजनेता, लेखक, वकील और स्वतंत्रता कार्यकर्ता के रूप में जाना जाता था.

1937-1939 में, उन्होंने हिंदू मंदिरों में दलितों के प्रवेश पर प्रतिबंध को हटाने, किसानों के कर्ज के बोझ को कम करने और संस्थानों में हिंदी को अनिवार्य करने के लिए एक बड़े आंदोलन की शुरुआत की.

वह “Salem Literary Society” के संस्थापक भी थे और उन्होंने दलित छात्रों की छात्रवृत्ति और कल्याण के लिए सुझाव दिया. उन्होंने प्राथमिक शिक्षा की संशोधित प्रणाली भी शुरू की.

1948 में लॉर्ड माउंटबेटन (Lord Mountbatten) के भारत छोड़ने के बाद, वे भारत के पहले और अंतिम गवर्नर जनरल (Governor General) बने और 1950 तक इस पद पर बने रहे.

1959 में, उन्होंने कांग्रेस पार्टी के खिलाफ स्वतंत्र पार्टी का गठन किया जो समानता और निजी क्षेत्र पर सरकार से अधिकारों के लिए खड़ी थी.

उन्होंने मद्रास प्रांत के प्रमुख, भारतीय संघ के गृह मंत्री, पश्चिम बंगाल के राज्यपाल और मद्रास राज्य के मुख्यमंत्री आदि जैसे कई अन्य महत्वपूर्ण पदों पर कार्य किया.

उन्हें अपने देश के लिए उनके प्रमुख और विशिष्ट योगदान के लिए हमेशा याद किया जाएगा. 1954 में, देश के लिए उनके बहुमूल्य योगदान के लिए, उन्हें भारत रत्न, भारत के पहले सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार (India’s first highest civilian award) से सम्मानित किया गया था.

#2. सी वी रमन (C. V. Raman):

(1954 में भारत रत्न से सम्मानित)

भारत के महान भौतिकशास्त्री (Physicist) सर चंद्रशेखर वेंकट रमन का जन्म 7 नवंबर 1888 को तिरुवनैकवल में हुआ था. वे महात्मा गांधी और उनके विचारों से प्रभावित थे और उनके बहुत बड़े अनुयायी थे.

उन्होंने चेन्नई के प्रेसीडेंसी कॉलेज और मद्रास विश्वविद्यालय से अपनी शिक्षा पूरी की और ये भौतिकी के क्षेत्र में एक महान शोधकर्ता थे.

उन्होंने प्रकाश के क्वांटम सिद्धांत (The quantum theory of light) की खोज की और समझाया कि जब प्रकाश एक पारदर्शी वस्तु से होकर गुजरता है, तो हटाया गया प्रकाश अपनी तरंगदैर्घ्य को बदल देता है.

उन्होंने आगे पाया कि प्रकाश क्वांटा और अणु अपनी ऊर्जा बदलते हैं जो स्वयं को विसरित प्रकाश के रंग में परिवर्तन के रूप में दिखाता है जिसे बाद में रमन प्रभाव (Raman Effect) कहा जाता है.

यह विज्ञान के क्षेत्र में एक अनूठी खोज थी, वे पहले एशियाई व्यक्ति थे जिन्हें इस खोज के लिए नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize) से सम्मानित किया गया था.

उन्होंने Indian Institute of Science Bangalore की भी स्थापना की, जो पूरे देश में विज्ञान आधारित पत्रिका का सबसे अच्छा प्रकाशक है, और उन्होंने बैंगलोर के पास Raman Research Institute भी बनाया है.

देश के लिए भौतिकी में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए 1954 में, उन्हें भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था. 

इस महान वैज्ञानिक का 82 वर्ष की आयु में 21 नवंबर 1970 को बैंगलोर में गंभीर दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया.

#3. सर्वपल्ली राधाकृष्णन (Sarvepalli Radhakrishnan):

(1954 में भारत रत्न से सम्मानित)

20वीं सदी के इस प्रख्यात और प्रमुख भारतीय दार्शनिक, विद्वान और राजनेता का जन्म 5 सितंबर 1888 को थिरुथानी में हुआ था.

अपने पूरे जीवन में उन्होंने लेखन साहित्य को एक पेशे के रूप में चुना. एस राधाकृष्णन दुनिया भर में धर्म और हिंदू धर्म की विचारधारा को परिभाषित करना चाहते थे.

पश्चिमी विद्या के उनके विशाल ज्ञान ने उन्हें भारत और पश्चिम के बीच एक सेतु निर्माता के रूप में ख्याति दिलाई. उनका अधिकांश ज्ञान “अद्वैत वेदांत” पर आधारित था.

शिक्षा के क्षेत्र में उनके महान योगदान को देखते हुए 1954 में उन्हें भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया.

राधाकृष्णन के सम्मान में, भारत उनके जन्मदिन “5 सितंबर” को मानवता के लिए उनके सराहनीय कार्य के लिए हर साल शिक्षक दिवस (Teacher’s Day) के रूप में मनाता है. उनका विचार था कि शिक्षक का दिमाग देश में सबसे बुद्धिमान होना चाहिए.

उन्होंने आंध्र प्रदेश के कुलपति का पद भी संभाला और 1952 से 1962 तक देश के पहले उपराष्ट्रपति बने और 1962 से 1967 तक देश के दूसरे राष्ट्रपति के रूप में देश के इस सर्वोच्च पद पर भी रहे.

भारत के इस महान नेता और दार्शनिक का 17 अप्रैल 1975 को चेन्नई में निधन हो गया.

#4. भगवान दास (Bhagwan Das):

(1955 में भारत रत्न से सम्मानित)

इस महान लेखक और भारतीय धर्मशास्त्री का जन्म 12 जनवरी 1869 को वाराणसी (काशी) के प्रतिष्ठित साह परिवार में हुआ था.

वह 1890 में एक तहसीलदार के रूप में सरकारी सेवा में शामिल हुए, और 1894 में उन्हें डिप्टी कलेक्टर और मजिस्ट्रेट के रूप में पदोन्नत किया गया.

दास संस्कृत के विद्वान थे और उन्होंने हिंदी और संस्कृत भाषाओं में 30 से अधिक पुस्तकें लिखीं. असहयोग आंदोलन के बाद दास कांग्रेस में शामिल हो गए. वे काशी विद्यापीठ के संस्थापक भी रहे है.

भगवान दास 6 साल तक एक साधु के रूप में रहे और उन्होंने अपने गुरु नीम करोली बाबा (Neem Karoli Baba) के मार्गदर्शन में नाद योग का प्राचीन विज्ञान सीखा.

18 सितंबर, 1958 को 90 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया.

#5. सर डॉ मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया (Sir Dr Mokshagundam Visvesvaraya):

(1955 में भारत रत्न से सम्मानित)

सर डॉ. मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया का राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लंबा और सम्मानित जीवन रहा है. एम. विश्वेश्वरैया का जन्म 15 सितंबर 1861 को मुद्दनहल्ली, मैसूर राज्य (वर्तमान चिक्कबल्लापुर जिले, कर्नाटक) में एक तेलुगु ब्राह्मण परिवार में मोक्षगुंडम श्रीनिवास शास्त्री और वेंकटलक्ष्मी के घर हुआ था.

उन्होंने अपनी उच्च शिक्षा मद्रास विश्वविद्यालय (1881) और इंजीनियरिंग कॉलेज पुणे (1883) से प्राप्त की. उन्होंने हैदराबाद शहर के लिए बाढ़ सुरक्षा प्रणाली (Flood protection system) के मुख्य अभियंता के रूप में काम किया.

1911 में, सर विश्वेश्वरैया को भारतीय साम्राज्य की गुप्त समिति के सहयोगी के रूप में चुना गया था. 1912 से 1918 तक, उन्होंने मैसूर के दीवान के रूप में कार्य किया और उसके बाद उन्हें भारतीय साम्राज्य की गुप्त समिति के नाइट कमांडर के रूप में “नाइट (Knight)” की उपाधि से सम्मानित किया गया.

भारत सरकार द्वारा देश के अन्य क्षेत्रों में किए गए बहुमूल्य योगदान के लिए भी उनकी प्रशंसा की गई, लेकिन शिक्षा और इंजीनियरिंग के क्षेत्र में उन्हें विशेष सराहना मिली.

मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया भारत के पहले इंजीनियर (First engineer of India) थे. सर विश्वेश्वरैया ने इंजीनियरिंग क्षेत्र का और विस्तार किया और इसके पठन प्रारूप को भी संशोधित किया.

भारत के महानतम इंजीनियरों में से एक रहे सर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया की जयंती के उपलक्ष्य में भारत में हर साल 15 सितंबर को इंजीनियर दिवस (Engineer’s Day) मनाया जाता है.

विश्वेश्वरैया को 1955 में भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था. भारत के इस महान इंजीनियर का निधन 12 अप्रैल 1962 को हुआ था.

#6. जवाहर लाल नेहरू (Jawaharlal Nehru):

(1955 में भारत रत्न से सम्मानित)

भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के प्रमुख नेताओं में से एक और आधुनिक भारत के निर्माता जवाहरलाल नेहरू का जन्म 14 नवंबर 1889 को इलाहाबाद में हुआ था. 

नेहरू ने इंग्लैंड के प्रतिष्ठित शैक्षणिक संस्थानों, कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय और ट्रिनिटी कॉलेज और फिर इनर टेम्पल में शिक्षा प्राप्त की, जहां उन्होंने कानून की पढाई की और उसके बाद बैरिस्टर के रुप में ट्रेनिंग के लिये भारत से बुलावा आया.

भारत लौटने के बाद नेहरू पूरी तरह से स्वतंत्रता आंदोलन (Freedom movement) में कूद पड़े. वह एक प्रसिद्ध समाजवादी नेता थे और कांग्रेस पार्टी के तहत वामपंथी के रूप में प्रतिनिधित्व करते थे.

गांधीजी को उनसे बहुत लगाव था और सबसे भरोसेमंद सहायक के रूप में उनका मार्गदर्शन भी करते थे. अपनी गहरी प्रतिबद्धता और प्रयासों के कारण, नेहरू जल्द ही गांधीजी के बाद राष्ट्रीय आंदोलन के मुख्य नेता बन गए.

1929 में, वे पहली बार कांग्रेस के अध्यक्ष बने और घोषणा की कि राष्ट्रीय आंदोलन का मुख्य लक्ष्य अंग्रेजों से पूर्ण स्वतंत्रता प्राप्त करना है.

नेहरू को धर्मनिरपेक्षता, समाजवाद और लोकतंत्र के आधुनिक विचारों में बहुत विश्वास था, स्वतंत्रता के बाद, इन लक्ष्यों को स्वतंत्र भारत में शामिल किया गया था. नेहरू स्वतंत्र भारत के पहले प्रधान मंत्री बने और अपनी मृत्यु तक देश की सेवा की.

प्रधान मंत्री के रूप में, उन्होंने भारत को एक आधुनिक, अग्रगामी और प्रगतिशील राष्ट्र बनाने का कार्य शुरू किया. उन्होंने कई वैज्ञानिक और अनुसंधान संस्थान जैसे IIT और परमाणु ऊर्जा आयोग (Atomic Energy Commission) आदि की स्थापना की; उद्योगों को बढ़ावा दिया और देश के विकास के लिए पंचवर्षीय योजना आयोग (Five Year Planning Commission) का गठन किया.

विदेश नीति के मामलों में, वह गुटनिरपेक्ष आंदोलन (Non-Aligned Movement) के वास्तुकारों में से एक थे और उन्होंने भारत को तत्कालीन दो महाशक्तियों, अमेरिका और यूएसएसआर की सत्ता की राजनीति से खुद को अलग करने के लिए एक नई दिशा दी. 

उनके इस कदम ने कई देशों को बंद राजनीति और सहयोग से स्वतंत्र कर दिया. गुटनिरपेक्ष आंदोलन नेहरू की एक महान विरासत है जो अभी भी देश की मुख्य विदेश नीति का हिस्सा है. 

1962 के चीन युद्ध के बाद नेहरू की तबीयत बिगड़ गई और इस युद्ध में भारत को हार का सामना करना पड़ा. उनका स्वास्थ्य लगातार बिगड़ता गया और 27 मई 1964 को दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया.

नेहरू को 1955 में “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था.

#7. गोविंद बल्लभ पंत (Govind Ballabh Pant):

(1955 में भारत रत्न से सम्मानित)

एक महान स्वतंत्रता सेनानी गोविंद बल्लभ पंत का जन्म 10 सितंबर 1887 को अल्मोड़ा के पास खुंट नामक गांव में हुआ था. वह भारत के लोगों के बीच पंडित पंत के रूप में प्रसिद्ध थे.

उन्होंने हिंदी को राजभाषा बनाने के लिए आंदोलन की स्थापना की. 

1914 में, एक वकील के रूप में, उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ आंदोलन में सक्रिय योगदान देना शुरू किया. अपने असाधारण नेतृत्व कौशल के कारण, पार्टी के अन्य सदस्यों की सहमति प्राप्त करने के बाद, वह जल्द ही पार्टी के उपनेता के रूप में कांग्रेस में शामिल हो गए.

गांधीजी और पंडित नेहरू के साथ उन्होंने कई आंदोलनों में सक्रिय भाग लिया. पंडित पंत ने 1955 से 1961 तक केंद्रीय गृह मंत्री (Union Home Minister) के रूप में भी देश की सेवा की.

वे उत्तर प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री (1950-1954) भी रहे थे. मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्होंने भारतीय समाज के जनकल्याण के लिए जमींदारी प्रथा को हटा दिया, जो भारत के विकास की दिशा में एक बड़ा कदम था.

इस महान व्यक्तित्व के नाम पर कई स्कूल, अस्पताल और विश्वविद्यालय खोले गए. पटनागर विश्वविद्यालय (Pantnagar University) का नाम पूरी दुनिया में कृषि विश्वविद्यालय का एक बेहतरीन उदाहरण है.

उनके उत्कृष्ट कार्य के लिए उन्हें 1955 में देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था.

#8. डॉ धोंडो केशव कर्वे (Dr Dhondo Keshav Karve):

(1958 में भारत रत्न से सम्मानित)

महर्षि कर्वे के नाम से मशहूर अन्नासाहेब कर्वे का जन्म 18 अप्रैल 1858 को महाराष्ट्र राज्य के रत्नागिरी जिले के खेड़ तालुका में स्थित शिरवाली गांव में हुआ था.

उन्होंने एल्फिंस्टन कॉलेज बॉम्बे (मुंबई) से गणित में स्नातक की डिग्री हासिल की. 1891 से 1914 के दौरान, कर्वे ने पुणे के फर्ग्यूसन कॉलेज में गणित पढ़ाना शुरू किया. इसके बाद महर्षि कर्वे ने अपना पूरा जीवन नारी शिक्षा के उत्थान के लिए समर्पित करने का निश्चय किया.

उन्होंने विधवाओं के उत्थान और पुनर्वास के लिए अनेक कार्य किए. उन्होंने न केवल विधवा पुनर्विवाह को प्रोत्साहित किया बल्कि उनके बच्चों की भी मदद की.

कर्वे ने महिलाओं के कल्याण के लिए कई संस्थाओं की स्थापना की जैसे 1893 में विधवा-विवाहोत्तेजक मंडल, महर्षि कर्वे स्त्री शिक्षण संस्थान आदि. 

इसके बाद 1916 में उन्होंने पुणे में महिलाओं के लिए श्रीमती नाथीबाई दामोदर ठाकरसी के नाम से पहला भारतीय महिला विश्वविद्यालय (SNDT Women’s University) स्थापित किया. SNDT College को 1949 में भारत सरकार द्वारा एक सांविधिक विश्वविद्यालय के रूप में मान्यता दी गई

महर्षि कर्वे “समता संघ” के संस्थापक भी रहे हैं, जो मानव समानता को बढ़ावा देने के लिए गठित एक संघटन है.

भारत में महिलाओं की शिक्षा और स्वतंत्रता के लिए अपना पूरा जीवन देने के अलावा, उन्होंने हिंदू समाज और जाति व्यवस्था में छुआछूत के खिलाफ आवाज उठाई.

भारतीय समाज को अपना पूरा जीवन समर्पित करने के लिए भारत सरकार ने उन्हें 1958 में “भारत रत्न” से सम्मानित किया.

#9. डॉ. बिधान चंद्र रॉय (Dr. Bidhan Chandra Roy):

(1961 में भारत रत्न से सम्मानित)

इस महान चिकित्सक-सर्जन बिधान चंद्र रॉय का जन्म 1 जुलाई 1882 को बिहार में हुआ था. उन्होंने अपने करियर के रूप में वैद्यक-शास्र को चुना और अपनी असाधारण प्रतिभा के कारण, उन्होंने रिकॉर्ड समय में दो प्रतिष्ठित मेडिकल डिग्री MRCP और FRCS पूरी की.

डॉ बिधान चंद्र रॉय महात्मा गांधी के निजी चिकित्सक और भारतीय उपमहाद्वीप में पहले चिकित्सा सलाहकार थे. डॉ बिधान चंद्र रॉय को 1928 में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन और मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया की स्थापना का भी श्रेय दिया जाता है.

भारत में हर साल 1 जुलाई को डॉ बिधान चंद्र रॉय की याद में राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस (National Doctors’ Day) मनाया जाता है.

उन्होंने अपना पूरा जीवन चिकित्सा, विज्ञान, दशर्नशास्त्र, साहित्य और कला के लिए समर्पित कर दिया. गांधीजी के साथ-साथ वे स्वतंत्रता आंदोलन में भी शामिल थे.

बाद में 1948 में, उन्हें पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री के रूप में चुना गया और उन्होंने 14 वर्षों तक राज्य की सेवा की. सीएम के रूप में, उन्होंने पांच प्रमुख शहरों की स्थापना की: दुर्गापुर, कल्याणी, बिधाननगर, अशोकनगर और हावड़ा.

पश्चिम बंगाल के विकास में उनके योगदान को देखते हुए उन्हें आधुनिक पश्चिम बंगाल के निर्माता के रूप में याद किया जाता है.

पश्चिम बंगाल के चिकित्सा और विकास के क्षेत्र में उनके विशेष योगदान के लिए 14 फरवरी 1961 को डॉ. रॉय को “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया.

#10. पुरुषोत्तम दास टंडन (Purushottam Das Tandon):

(1961 में भारत रत्न से सम्मानित)

1 अगस्त 1882 को भारत के उत्तर प्रदेश में जन्मे पुरुषोत्तम दास टंडन भारत के एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे. उन्हें किसान आंदोलन में उनके प्रयासों के लिए जाना जाता है और उन्होंने 1934 में बिहार प्रांतीय किसान सभा के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया.

टंडन 1921 में लाला लाजपत राय द्वारा गठित एक सामाजिक सेवा संगठन कर्मचारी लोक समाज (लोक सेवक मंडल) के अध्यक्ष भी थे. पुरुषोत्तम दास टंडन को हिंदी को भारत की आधिकारिक भाषा बनाने में मदद करने के लिए विशेष रूप से याद किया जाता है.

बाद में वे भारत की संविधान सभा के लिए चुने गए. उन्होंने 31 जुलाई 1937 से 10 अगस्त 1950 तक उत्तर प्रदेश के विधान सभा के पद की गरिमा को भी बढ़ाया. 1 जुलाई 1962 को उनका निधन हो गया.

#11. डॉ राजेंद्र प्रसाद (Dr. Rajendra Prasad):

(1962 में भारत रत्न से सम्मानित)

इस महान न्यायविद और असाधारण स्वतंत्रता कार्यकर्ता का जन्म 3 दिसंबर 1884 को बिहार के जेरादेई में हुआ था. डॉ. राजेंद्र प्रसाद बचपन से ही बहुत होनहार छात्र थे; 1915 में, उन्हें वकालत में स्नातकोत्तर की परीक्षा में स्वर्ण पदक से सम्मानित किया गया और बाद में वकालत में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की.

डॉ प्रसाद गांधीजी के महान शिष्यों में से एक थे और उन्होंने स्वतंत्रता आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. अन्य स्वतंत्रता सेनानियों के साथ असहयोग आंदोलन, नमक सत्याग्रह और भारत छोड़ो आंदोलन में भी उनकी भूमिका महत्वपूर्ण थी.

जब भारत के संविधान को बनाने के लिए संविधान सभा (Constituent Assembly) का गठन किया गया था, तब डॉ प्रसाद को उनकी असाधारण क्षमता और संवैधानिक मामलों के ज्ञान के कारण सदन के अध्यक्ष के रूप में चुना गया था.

स्वतंत्रता के बाद, डॉ राजेंद्र प्रसाद को उनकी प्रतिष्ठित प्रतिमा के लिए भारत का पहला राष्ट्रपति (First President of India) चुना गया था. डॉ. प्रसाद ने राष्ट्रपति भवन को शाही भव्यता से एक शांतिप्रद भारतीय गृह में बदल दिया.

1962 में, डॉ प्रसाद 12 साल बाद राष्ट्रपति के पद से सेवानिवृत्त हुए, और बाद में उन्हें सर्वोच्च भारतीय नागरिक सम्मान “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया. डॉ राजेंद्र प्रसाद का निधन 28 फरवरी 1963 को हुआ था.

#12. डॉ. जाकिर हुसैन (Dr. Zakir Hussain):

(1963 में भारत रत्न से सम्मानित)

डॉ. हुसैन का जन्म 8 फरवरी 1897 को हैदराबाद, तेलंगाना में हुआ था. वे एक महान शिक्षाविद्, राजनीतिज्ञ थे और गांधीजी के व्यक्तित्व से काफी प्रभावित थे.

वह भारत में व्यावसायिक शिक्षा प्रणाली (Vocational education system) के संयोजक थे. जामिया मिलिया इस्लामिया (केंद्रीय विश्वविद्यालय) की नींव रखने में उनका महत्वपूर्ण योगदान था.

डॉ. हुसैन आधुनिक भारत के प्रख्यात गुणी और शैक्षिक विचारकों में से एक थे. उन्होंने भारत में बेहतर शैक्षिक सुधारों के लिए खुद को विभिन्न आंदोलनों में संलग्न कर दिया.

वह भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में गहराई से शामिल थे. उन्हें बिहार का राज्यपाल नियुक्त किया गया और उन्होंने बिहार के उत्थान के लिए काफी कार्य किया. 13 मई 1967 को वे भारत के पहले मुस्लिम राष्ट्रपति भी बने.

1963 में राजनीति और शिक्षा के क्षेत्र में उनके विशेष योगदान के लिए उन्हें “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया. 3 मई 1969 को डॉ जाकिर हुसैन का निधन हो गया.

#13. डॉ. पांडुरंग वामन काणे (Dr. Pandurang Vaman Kane):

(1963 में भारत रत्न से सम्मानित)

डॉ. वी.पी. काणे का जन्म 1880 में महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले में हुआ था. वह एक प्रसिद्ध भारतविद् और संस्कृत के विद्वान थे: एक महान शोधकर्ता जो सामाजिक सुधार से प्यार करते थे.

डॉ. काणे के प्राचीन भारतीय लेखन की गहराई हमें प्राचीन भारत की सामाजिक प्रक्रिया को समझने में सक्षम बनाती है.

उन्होंने कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय की नींव में एक प्रमुख भूमिका निभाई. वे दो बार राज्यसभा में चुने गए और कई माध्यमों और मंचों से समाज की सेवा की.

वह 1922 में दापोली में स्थापित शैक्षणिक संस्थान के पहले सदस्यों में से एक थे और वे 1938 से 1946 तक उसी फाउंडेशन के अध्यक्ष भी थे.

1963 में उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया. इस महान विद्वान का 1972 में निधन हो गया.

#14. लाल बहादुर शास्त्री (Lal Bahadur Shastri):

(1966 में भारत रत्न से सम्मानित)

2 अक्टूबर 1904 को उत्तर प्रदेश के मुगलसराय में जन्मे लाल बहादुर शास्त्री बहुत ही विनम्र और दृढ़ निश्चयी व्यक्ति थे. उन्होंने बचपन से ही खुद में ईमानदारी, सेवा, भाईचारा, साहस आदि गुणों का विकास किया.

ये एक दृढ़ सिद्धांतवादी पुरुष थे; जातिवाद का विरोध करने के लिए उन्होंने अपना उपनाम हटा दिया और रेल मंत्री रहते हुए एक रेल दुर्घटना में 150 लोगों की मौत की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा भी दे दिया था.

गांधीजी के आह्वान से प्रेरित होकर शास्त्री 1920 में स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल हुए. वे गांधी जी के विचारों से बहुत अधिक प्रभावित थे और समाजवाद के समर्थक थे.

देश की आजादी के बाद उन्होंने विभिन्न पदों पर कार्य किया, साथ ही नेहरू की मृत्यु के बाद वे देश के दूसरे प्रधानमंत्री बने. उनके प्रधानमंत्रित्व काल में कई महत्वपूर्ण घटनएं घटीं; उन्होंने पूरी सफलता के साथ 1965 के पाकिस्तान युद्ध का नेतृत्व किया.

उन्होंने “जय जवान जय किसान का” का नारा दिया जो युद्ध के दौरान बहुत प्रसिद्ध हुआ और आज भी याद किया जाता है.

उन्होंने देश में दूध की उत्पादकता बढ़ाने के लिए श्वेत क्रांति (White Revolution) को बढ़ावा दिया, साथ ही हरित क्रांति (Green Revolution) की नींव रखी ताकि देश खाद्य उत्पादन में आत्मनिर्भर बन सके.

भारत के इस महान सपूत की 11 जनवरी 1966 को ताशकंद, यूएसएसआर में दिल का दौरा पड़ने से मृत्यु हो गई, जब वह पाकिस्तान के साथ युद्धविराम के बाद पाकिस्तान के साथ ताशकंद घोषणा-पत्र पर हस्ताक्षर कर रहे थे.

देश के लिए उनके असाधारण कार्य के लिए उन्हें 1966 में “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया और साथ ही मरणोपरांत यह सम्मान प्राप्त करने वाले वह पहले व्यक्ति भी थे.

#15. इंदिरा गांधी (Indira Gandhi):

(1971 में भारत रत्न से सम्मानित)

दुनिया इंदिरा गांधी को भारत के पहले प्रधानमंत्री और महान स्वतंत्रता सेनानी की इकलौती संतान इंदिरा प्रियदर्शिनी के नाम से भी जानती है. उनका जन्म 19 नवंबर 1917 को इलाहाबाद में हुआ था. घर में राजनीतिक माहौल के चलते इंदिरा बचपन से ही राजनीतिक रूप से सक्रिय रहीं.

1964 में नेहरू की मृत्यु के बाद, लाल बहादुर शास्त्री देश के दूसरे प्रधान मंत्री बने और उनके कार्यकाल के दौरान इंदिरा गांधी को सूचना और संचार मंत्री (Information and Communications Minister) का प्रभार मिला.

लेकिन 1966 में शास्त्री जी की असामयिक मृत्यु के कारण, इंदिरा का नाम कांग्रेस के नेता के रूप में सामने आया और फिर वह भारत की पहली महिला प्रधान मंत्री (First woman Prime Minister of India) बनीं.

इंदिरा गांधी देश की पहली महिला प्रधान मंत्री थीं और उन्होंने 1966 से 1977 तक लगातार तीन बार कार्यकाल पूरा किया और और उन पर हुए जानलेवा हमले में मृत्यु से पहले तक उनका चौथा कार्यकाल 1980 से 1984 तक रहा था.

इंदिरा गांधी को 20वीं शताब्दी के दौरान उनकी ठोस नीतियों और उनके प्रधान मंत्री कार्यकाल के कारण दुनिया की सबसे शक्तिशाली महिलाओं में से एक के रूप में याद किया जाता है. 

उन्होंने भारत को विश्व का एक आधुनिक शक्तिशाली राष्ट्र बनाने का सफलतापूर्वक प्रयास किया. ऐतिहासिक सुधार के रूप में इंदिरा जी ने Privy Purse को पूरी तरह से समाप्त कर दिया और 1969 में 14 बड़े बैंकों का राष्ट्रीयकरण कर दिया.

इंदिरा गांधी ने भी पाकिस्तान के खिलाफ स्वतंत्रता के लिए पूर्वी पाकिस्तान का समर्थन किया और 1971 में इस उद्देश्य के लिए पाकिस्तान के साथ युद्ध लड़ा, जिसके परिणामस्वरूप भारत विजयी हुआ और बांग्लादेश (पूर्वी पाकिस्तान) एक स्वतंत्र देश के रूप में उभरा.

1971 में भारत के प्रधान मंत्री रहते हुए उन्हें “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था. हालांकि, 1975 से 1977 के आपातकाल (Emergency) ने उनके राजनीतिक और सामाजिक जीवन पर एक काला धब्बा लगा दिया.

जब पूरी दुनिया राजनीतिक और आर्थिक रूप से एक भयानक दौर से गुजर रही थी, तब इंदिरा गांधी भारत की एक बहुत शक्तिशाली नेता के रूप में उभरी थीं.

31 अक्टूबर 1984 को इंदिरा गांधी पर उनके ही सुरक्षाकर्मियों ने हमला किया था, जिससे उनकी मौत हो गई थी.

#16. वी वी गिरी (Varahagiri V. Giri):

(1975 में भारत रत्न से सम्मानित)

देश के चौथे राष्ट्रपति, वराहगिरी वेंकट गिरि का जन्म 10 अगस्त 1894 को उड़ीसा के बरहामपुर में हुआ था; वह लोगों के बीच वीवी गिरी के नाम से मशहूर थे.

वह भारत में औद्योगिक श्रमिक आंदोलन के समर्थक थे और एक ट्रेड यूनियनिस्ट के रूप में जाने जाते थे; वह 1923 में रेलवे कर्मचारी संघ के संस्थापक सदस्यों में से एक थे.

1928 में, वीवी गिरी ने बंगाल-नागपुर रेलवे एसोसिएशन का गठन किया, जिसने श्रमिकों के अधिकारों के लिए शांतिपूर्ण आंदोलन में बंगाल नागपुर रेलवे के कर्मचारियों का नेतृत्व किया. इसकी सफलता ने ब्रिटिश भारत सरकार और रेलवे प्रबंधन को श्रमिकों की मांगों को स्वीकार करने के लिए मजबूर कर दिया. यह भारत के मजदूर आंदोलन के लिए एक बड़ा क्षण था.

इसके अलावा, 1929 में, उन्होंने एनएम जोशी और अन्य लोगों के साथ मिलकर इंडियन ट्रेड यूनियन फेडरेशन (Indian Trade Union Federation) की स्थापना की, जो पूरे भारत में श्रमिकों के अधिकारों के लिए काम करता है.

स्वतंत्रता के बाद भी, वह एक राजनेता के रूप में सक्रिय रहे और 24 अगस्त 1969 से 24 अगस्त 1974 तक भारत के चौथे राष्ट्रपति के रूप में चुने गए.

वीवी गिरी के उत्कृष्ट योगदान के लिए उन्हें 1975 में “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था. वीवी गिरी का 24 जून 1980 को उनके मद्रास स्थित निवास में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया.

#17. कुमारस्वामी कामराजी (Kumaraswami Kamaraj):

(1976 में भारत रत्न से सम्मानित)

कुमारस्वामी कामराज भारत के एक महान नेता थे जिनका जन्म 15 जुलाई 1903 को तमिलनाडु के विरुधुनगर में हुआ था. उनका मूल नाम कामाक्षी कुमारस्वामी नादर था लेकिन बाद में उन्हें के कामराज के नाम से जाना जाने लगा.

1960 में, उन्हें भारतीय राजनीति में “किंगमेकर” के रूप में पहचाना जाता था. वह भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में भी सक्रिय रूप से शामिल थे.

उन्होंने 1927 में मद्रास में तलवार सत्याग्रह (Talwar Satyagraha) की शुरुआत की थी. 13 अप्रैल 1954 को वे मद्रास प्रांत के मुख्यमंत्री बने.

उन्हें आज भी लाखों ग्रामीण गरीब बच्चों को मुक्त शिक्षा (Open education) देकर स्कूली शिक्षा देने के लिए याद किया जाता है; उन्होंने ही स्कूलों में बच्चों के लिए मुफ्त मध्याह्न भोजन योजना (Free mid-day meal scheme) की शुरुआत की थी.

बाद में कामराज ने कई सिंचाई योजनाएं भी शुरू कीं; ऊपरी भवानी, अरणी, वैगई, पुलंबरी, मणि मुथर, कृष्णागिरी, अमरावती, सथानूर, परंभिकुलम और नेय्यारू के साथ बांध और सिंचाई नहरें बनाई गईं.

2 अक्टूबर 1975 को, 72 वर्ष की आयु में, कामराज की अपने घर पर नींद में दिल का दौरा पड़ने से मृत्यु हो गई. शिक्षा और राजनीति के क्षेत्र में उनके विशेष योगदान के लिए उन्हें 1976 में मरणोपरांत “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था.

#18. मदर टेरेसा (Mother Teresa):

(1980 में भारत रत्न से सम्मानित)

मदर टेरेसा का जन्म 26 अगस्त 1910 को मैसेडोनिया के स्कोप्जे में एग्नेस गोंक्सा बोजाक्सीहु के रूप में हुआ था. मदर टेरेसा एक प्रसिद्ध समाज सुधारक, रोमन कैथोलिक सिस्टर और मिशनरी थीं.

उन्होंने मिशनरीज ऑफ चैरिटी की स्थापना की, जिसकी 2012 में 133 देशों में 4500 सिस्टर थीं. 1948 में, उन्होंने भारत के गरीब लोगों के साथ अपना मिशनरी कार्य शुरू किया. इस संगठन का लक्ष्य एक नया समूह बनाना था जो सबसे गरीब से गरीब व्यक्ति की मदद करेगा.

मदर टेरेसा कई आश्रय गृह चलाती थीं जो एड्स/एचआईवी, टीबी, कुष्ठ रोग जैसे बेघर मरीजों के लिए थे. उन्होंने बच्चों के लिए परिवार परामर्श कार्यक्रम, स्कूल और अनाथालय भी शुरू किए.

मदर टेरेसा ने 1952 में कलकत्ता (कोलकाता) में गरीब लोगों के लिए पहला आश्रम खोला. उन्होंने भारतीय अधिकारियों की मदद से एक परित्यक्त मंदिर को एक अनाथालय में बदल दिया.

भारतीय समाज में उनके अद्भुत योगदान के लिए उन्हें 1979 में “नोबल शांति पुरस्कार” और 1980 में “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था. 5 सितंबर 1997 को 87 साल की उम्र में मदर टेरेसा का निधन हो गया.

#19. विनायक नरहरि भावे (Vinayak Narhari Bhave):

(1983 में भारत रत्न से सम्मानित)

विनोबा का जन्म 11 सितंबर 1895 को महाराष्ट्र के गागोडे गांव में एक चितपावन ब्राह्मण परिवार में हुआ था. भावे एक विचारक, विद्वान और लेखक थे जिन्होंने कई किताबें लिखीं. संस्कृत के अनुवादक के रूप में, उनकी पुस्तकों के संस्करण आम आदमी के लिए सुलभ थे; वे आचार्य के नाम से प्रसिद्ध थे.

वीएन भावे को भारत का राष्ट्रीय शिक्षक माना जाता है. भावे भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में गांधी के साथ प्रमुख नामों में से एक थे. 1940 में, उन्हें ब्रिटिश शासन के खिलाफ पहले सत्याग्रह के रूप में चुना गया था.

1951 में, विनोबा भावे ने तेलंगाना के नलगोंडा जिले के पोचमपल्ली से भूदान आंदोलन के रूप में आंदोलन शुरू किया, जहां उन्होंने जमींदारों से अपनी जमीन गरीब किसान को खेती के लिए दान करने का आग्रह किया.

1954 में उन्होंने ” ग्रामदान” की शुरुआत की और पूरे गांव से दान करने का आह्वान किया. नतीजतन, उन्होंने 1000 से अधिक गांवों को दान में प्राप्त किया.

भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन और भूदान आंदोलन में उनके अविस्मरणीय योगदान के लिए उन्हें 1983 में “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था. जैन धर्म में वर्णित “समाधि मारन” / “संथारा” को अपनाते हुए भोजन और दवा का त्याग करने के बाद 15 नवंबर 1982 को उनकी मृत्यु हो गई.

#20. खान अब्दुल गफ्फार खान (Khan Abdul Ghaffar Khan):

(1987 में भारत रत्न से अभिमंत्रित)

खान अब्दुल गफ्फार खान (बचा खान / बादशाह खान) का जन्म 6 फरवरी 1890 को ब्रिटिश भारत के पेशावर घाटी में उत्मानजई के एक समृद्ध जमींदार पश्तून परिवार में हुआ था. बचा खान एक आध्यात्मिक और पश्तून राजनीतिक नेता थे. उन्हें एक धर्मनिष्ठ मुस्लिम और अहिंसक आंदोलन के समर्थक के रूप में जाना जाता था.

गांधीजी की शिक्षाओं में उनका बहुत विश्वास था जो महात्मा गांधी के अनुयायी बन गए और उन्हें “फ्रंटियर गांधी (Frontier Gandhi)” कहा जाने लगा. 

उन्होंने गांधी के साथ नमक सत्याग्रह में भी भाग लिया था. लाल कुर्ती या लाल शर्ट आंदोलन की शुरुआत अब्दुल गफ्फार खान ने 1930-31 में ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ की थी, इसे “खुदाई खिदमतगार” आंदोलन के नाम से भी जाना जाता है.

आजादी के समय जब भारत के बंटवारे की बात हो रही थी तो उन्होंने इसका कड़ा विरोध किया था. 1920 में, गफ्फार खान ने स्वतंत्रता, धर्मनिरपेक्षता और अखंड भारत के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए “लाल शर्ट (Red Shirt)” आंदोलन शुरू किया.

उनके उत्कृष्ट कार्यों और देशभक्ति के लिए उन्हें 1987 में भारत रत्न से सम्मानित किया गया था.

#21.एम.जी रामचन्द्रन (M. G. Ramachandran):

(1988 में भारत रत्न से सम्मानित)

प्रसिद्ध तमिल फिल्म कलाकार मारुथुर गोपालन रामचंद्रन, जिन्हें एमजीआर के नाम से भी जाना जाता है, का जन्म 17 जनवरी 1917 को नवलपट्टू, श्रीलंका में हुआ था.

उन्होंने तमिल फिल्मों में एक सफल निर्देशक, अभिनेता और निर्माता के रूप में काम किया. 1940 से अपने अभिनय कौशल के बल पर उन्होंने अगले तीन दशकों तक तमिल फिल्म उद्योग पर राज किया.

बाद में उन्होंने अपना राजनीतिक जीवन शुरू किया और अखिल भारतीय अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (AIADMK) नाम की एक पार्टी बनाई. 30 जून 1977 को, वह तमिलनाडु के मुख्यमंत्री बने और 1987 में अपनी मृत्यु तक तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किया.

उन्होंने मुख्यमंत्री का पद संभालते हुए आम आदमी की शिक्षा और सामाजिक विकास पर जोर दिया. तमिलनाडु में उन्होंने महिलाओं के लिए एक विशेष बस सेवा शुरू की, जिसे महिलाओं की विशेष बस सेवा के नाम से जाना जाता है.

उन्होंने राज्य में शराबबंदी, ऐतिहासिक धरोहरों और राज्य में पर्यटन की आय बढ़ाने के लिए पुराने मंदिरों के संरक्षण के लिये योजनाओं की शुरुआत की. 

भारतीय समाज में उनके योगदान के लिए, उन्हें मरणोपरांत 1988 में सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था. लंबी बीमारी के बाद 24 दिसंबर 1987 को मनापक्कम में उनके रामावरम गार्डन आवास में उनका निधन हो गया.

#22. बी आर अंबेडकर (B. R. Ambedkar):

(1990 में भारत रत्न से सम्मानित)

भीमराव रामजी अंबेडकर को प्यार से बाबासाहेब कहा जाता है. डॉ. भीम राव अंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को भारत के मध्य प्रदेश के महू में एक तथाकथित दलित परिवार में हुआ था.

अंबेडकर बचपन से ही पढ़ाई में बहुत होनहार छात्र थे और उन्होंने भारत और दुनिया के कई प्रसिद्ध विश्वविद्यालयों से अपनी शिक्षा पूरी की.

डॉ. अंबेडकर ने देश में दलितों के मुद्दे को गंभीरता से लिया और जीवन भर उनके अधिकारों के लिए संघर्ष किया. बाबासाहेब छुआछूत के खिलाफ देश में भेदभाव और अमानवीय व्यवहार के बहुत आलोचक थे और उन्होंने ब्राह्मणवाद और हिंदू सामाजिक रीति-रिवाजों का विरोध किया.

उन्होंने अछूतों और दलितों के अधिकारों के लिए लड़ने के लिए 1924 में बहिष्कृत हितकारिणी सभा (Bahishkrit Hitkarini Sabha) की स्थापना की.

वे हिंदू समाज की वर्ण व्यवस्था के घोर विरोधी थे और उन्होंने इस मुद्दे पर गांधीजी की आलोचना भी की क्योंकि गांधीजी जन्म के बजाय कर्म पर आधारित वर्ण व्यवस्था में विश्वास करते थे.

भारतीय संविधान के निर्माण के समय, बाबासाहेब को मसौदा समिति के अध्यक्ष के रूप में चुना गया था. उन्होंने संविधान में दलितों के लिए समानता और अस्पृश्यता के उन्मूलन के प्रावधान को प्राप्त करने में मदद की.

इसी वजह से तथाकथित दलित वर्ग के उत्थान में उनका योगदान बेजोड़ है और इसी वजह से डॉ. भीम राव अम्बेडकर को उनके महान योगदान के लिए 1990 में “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था.

#23. नेल्सन मंडेला (Nelson Mandela):

(1990 में भारत रत्न से सम्मानित)

20वीं सदी के महान क्रांतिकारी नेता नेल्सन रोलिहलाहला मंडेला का जन्म 18 जुलाई 1918 को दक्षिण अफ्रीका के मेजो में हुआ था. उन्होंने दक्षिण अफ्रीका में रंगभेद नीति (Apartheid policy) के अमानवीय व्यवहार के खिलाफ एक लंबी लड़ाई लड़ी और 1962 से 1990 तक 27 साल कारावास में बिताये.

वह गांधी के अहिंसक विरोध के तरीकों में विश्वास करते थे लेकिन साथ ही साथ संघर्ष के हिंसक साधनों का इस्तेमाल करते थे.

अपनी कानून की डिग्री पूरी करने के बाद, वह उपनिवेशवाद-विरोधी संघर्ष में शामिल हो गए और दक्षिण अफ्रीका में अश्वेत लोगों के अधिकारों के लिए लड़ने के लिए अफ्रीकी राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य बन गए. जल्द ही वे रंगभेद विरोधी नीति आंदोलन के मुख्य व्यक्ति बन गए और उन्हें दुनिया भर से समर्थन मिलना शुरू हो गया.

उन्हें 1962 में तत्कालीन दक्षिण अफ्रीकी सरकार द्वारा उनकी क्रांतिकारी गतिविधियों और उपनिवेश विरोधी राजनीति के लिए आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी; लेकिन जेल के अंदर से भी उन्होंने अपना संघर्ष जारी रखा और दुनिया भर के कार्यकर्ताओं ने उनके आंदोलन का समर्थन किया, जिसने उनकी रिहाई के लिए एक अंतरराष्ट्रीय अभियान शुरू किया. फिर भी, उन्हें 27 साल जेल की सजा काटनी पड़ी.

1990 में उन्हें रिहा कर दिया गया और सरकार के साथ बातचीत के साथ, दक्षिण अफ्रीका में क्रूर रंगभेद नीति की परंपरा समाप्त हो गई. 1994 में पहले बहुजातीय चुनाव (Multiracial election) में नेल्सन मंडेला की पार्टी ANC ने जीत हासिल की और वे दक्षिण अफ्रीका के पहले अश्वेत राष्ट्रपति बने.

1990 में, भारत ने उन्हें उनके सम्मान और दुनिया भर से जातिगत भेदभाव को समाप्त करने में उनके योगदान के सम्मान में सर्वोच्च नागरिक सम्मान “भारत रत्न” से सम्मानित किया.

बीसवीं और इक्कीसवीं सदी के सबसे महत्वपूर्ण शख्सियतों में से एक, नेल्सन मंडेला का 5 दिसंबर, 2013 को जोहान्सबर्ग में उनके घर पर 95 वर्ष की आयु में निधन हो गया.

#24. राजीव गांधी (Rajiv Gandhi):

(1991 में भारत रत्न से सम्मानित)

इंदिरा गांधी के सबसे बड़े बेटे राजीव गांधी का जन्म 20 अगस्त 1944 को हुआ था. हालांकि वे भारत के प्रसिद्ध राजनीतिक परिवार से ताल्लुक रखते थे, लेकिन वे जीवन भर ज्यादातर गैर-राजनीतिक रहे. राजीव गांधी अनिच्छा से राजनीति में शामिल हुए जब उनके छोटे भाई संजय गांधी की एक हवाई दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी.

31 अक्टूबर 1984 को अपनी मां, प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी पर हुए जानलेवा हमले के बाद राजीव गांधी को कांग्रेस पार्टी का नेता चुना गया था; इसके बाद वे 1984 में भारत के प्रधान मंत्री बने और 1989 तक इस पद पर बने रहे.

राजीव गांधी का कार्यकाल देश की तकनीकी उन्नति और आर्थिक उदारीकरण के लिए बहुत अच्छा रहा. उन्होंने BSNL और MTNL की उत्पत्ति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जिसने विशेष रूप से भारत में टेलीफोन नेटवर्क का विस्तार किया.

प्रधान मंत्री के रूप में राजीव गांधी के प्रयासों के कारण, भारत में सूचना प्रौद्योगिकी क्रांति के बीज बोए गए जिसने बाद में भारत को पूरी दुनिया में एक IT powerhouse बनाने में मदद की.

21 मई 1991 को एक चुनावी रैली के दौरान एक आत्मघाती हमले में उनकी मृत्यु हो गई. 1991 में, उन्हें उनकी लोक सेवा के लिए “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था.

#25. सरदार वल्लभ भाई पटेल (Sardar Vallabhbhai Patel):

(1991 में भारत रत्न से सम्मानित)

भारत के लौह पुरुष कहे जाने वाले महान स्वतंत्रता सेनानी सरदार वल्लभभाई पटेल का जन्म 31 अक्टूबर 1875 को महाराष्ट्र के नाडियाड में हुआ था. गांधीजी से मिलने और उनसे प्रोत्साहित होने के बाद, पटेल ने भारत के स्वतंत्रता संग्राम के लिए अपना सफल वकालत जीवन छोड़ दिया था.

एक नेता के रूप में, उनका पहला आंदोलन गुजरात के खेड़ा में था, जहां उन्होंने लोगों को कर न देने के लिए घर-घर जाकर अभियान चलाया क्योंकि जिले में अकाल और महामारी थी. यह आंदोलन बहुत सफल रहा और ब्रिटिश सरकार को कर राहत की मांग माननी पड़ी.

इसके बाद पटेल स्वतंत्रता संग्राम के एक महान नेता के रूप में उभरे. इसके बाद वल्लभभाई पटेल ने खुद को पूरी तरह से स्वतंत्रता आंदोलनों जैसे बारडोली सत्याग्रह, असहयोग आंदोलन, भारत छोड़ो आंदोलन आदि के लिए समर्पित कर दिया.

वे गांधी जी के बहुत ही भरोसेमंद और वफादार सहयोगी थे. आम लोगों के बीच उनकी अपार प्रसिद्धि के कारण लोगों ने उन्हें “सरदार” की उपाधि दी.

स्वतंत्रता के बाद भारत को एक संयुक्त राष्ट्र बनाने में सरदार पटेल का महत्वपूर्ण योगदान था. अपने निरंतर प्रयासों और दृढ़ इच्छाशक्ति के कारण, उन्होंने 600 से अधिक प्रांतों का भारत में विलय कर दिया.

वह देश के पहले उप प्रधानमंत्री और गृह मंत्री थे. राष्ट्र के लिए उनकी अविस्मरणीय सेवा के लिए उनका नाम हमेशा सम्मान के साथ याद किया जाएगा.

सरदार पटेल का 15 दिसंबर 1950 को बंबई (वर्तमान मुंबई) के बिड़ला हाउस में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया.

सरदार पटेल को उनकी मृत्यु के 41 साल बाद 1991 में मरणोपरांत देश के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था.

#26. मोरारजी देसाई (Morarji Desai):

(1991 में भारत रत्न से सम्मानित)

स्वतंत्रता आंदोलन के प्रख्यात नेताओं में से एक, श्री मोरारजी देसाई का जन्म 29 फरवरी, 1896 को भदेली गांव में हुआ था, जो अब गुजरात के बुलसर जिले में है. उन्होंने गांधीजी द्वारा चलाए गए कई आंदोलनों में सक्रिय भाग लिया और उन्हें कई बार अंग्रेजों द्वारा गिरफ्तार किया गया.

उन्होंने कई महत्वपूर्ण सरकारी पदों पर भी कार्य किया; तत्कालीन बॉम्बे राज्य के सीएम की तहत, गृह मंत्री, वित्त मंत्री, डिप्टी पीएम और अंत में भारत के प्रधान मंत्री बने.

मोरारजी देसाई अपने प्रशासनिक कौशल और सख्ती के लिए प्रसिद्ध थे. वह 1969 में कांग्रेस पार्टी से अलग हो गए और आपातकाल के दौरान इंदिरा गांधी शासन के खिलाफ सबसे मजबूत आवाजों में से एक के रूप में उभरे.

1977 के चुनावों में जब पहली गैर-कांग्रेसी सरकार बनी तो मोरारजी देश के प्रधानमंत्री बने. अपने छोटे से कार्यकाल के दौरान उन्होंने इंदिरा गांधी द्वारा किए गए कई नकारात्मक संवैधानिक प्रावधानों को हटा दिया.

उन्होंने पाकिस्तान और चीन के साथ शांतिपूर्ण और अच्छे संबंधों की भी कोशिश की. 1979 में पार्टी के भीतर गुटबाजी के कारण उन्होंने इस्तीफा दे दिया.

1991 में मोरारजी को भारत रत्न से सम्मानित किया गया था. मोरारजी देसाई का 10 अप्रैल 1995 को 99 वर्ष की आयु में निधन हो गया.

#27. अबुल कलाम आजाद (Abul Kalam Azad):

(1992 में भारत रत्न से सम्मानित)

अबुल कलाम आजाद का जन्म 11 नवंबर 1888 को सऊदी अरब के पवित्र शहर मक्का में हुआ था. उन्हें एक महान विद्वान, पत्रकार, शिक्षाविद् और स्वतंत्रता सेनानी के रूप में पहचाना जाता है.

युवावस्था से ही उनका झुकाव क्रांति की ओर था और वे अंग्रेजों की शोषणकारी नीतियों के घोर विरोधी थे. वह पत्रकारिता में आए और भारत विरोधी नीतियों के लिए अपनी कलम से ब्रिटिश सरकार पर खुलेआम हमला बोला.

साथ ही उन्होंने अंग्रेजों से लड़ने के लिए हिंदू-मुस्लिम एकता की आवश्यकता पर भी लिखा. 1912 में, कलाम ने अल-हिलाल (Al-Hilal) नामक एक साप्ताहिक समाचार पत्र शुरू किया.

बाद में उन्होंने खिलाफत आंदोलन (Khilafat movement) का समर्थन किया और गांधीजी के संपर्क में आए और उनसे प्रभावित होकर आजाद भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गए. 1923 में, वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सबसे कम उम्र के अध्यक्ष बने.

आजाद ने गांधीजी द्वारा शुरू किए गए कई आंदोलनों जैसे नमक सत्याग्रह, भारत छोड़ो आंदोलन, सविनय अवज्ञा आंदोलन आदि में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

उन्होंने हमेशा हिंदू-मुस्लिम एकता की अपील की और इसके तहत काम किया और सांप्रदायिक राजनीति करने वाले हिंदू-मुस्लिम नेताओं की आलोचना की.

वह संविधान सभा के एक प्रतिष्ठित सदस्य थे और स्वतंत्रता के बाद भारत के पहले शिक्षा मंत्री बने. मौलाना आजाद की भारतीय शिक्षा प्रणाली को आकार देने में बहुत बड़ी भूमिका है.

आजाद ने 1951 में आईआईटी, 1953 में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, दिल्ली केंद्रीय शिक्षा संस्थान आदि जैसे कई उच्च शिक्षण संस्थानों की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

इन सबके अलावा मौलाना आजाद एक कवि और लेखक भी थे. उनकी उत्कृष्ट पुस्तक “India Wins Freedom” भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन का सबसे अच्छा लेखा-जोखा है.

22 फरवरी, 1958 को एक स्ट्रोक से उनकी मृत्यु हो गई. भारत को एक आधुनिक राष्ट्र बनाने और हिंदू-मुस्लिम एकता की उनकी पहल के लिए उन्हें 1992 में मरणोपरांत “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था.

#28. जहांगीर रतनजी दादाभाई टाटा (Jehangir Ratanji Dadabhoy Tata):

(1992 में भारत रत्न से सम्मानित)

जेआरडी टाटा का जन्म 29 जुलाई 1904 को पेरिस, फ्रांस में हुआ था, वे एक वैमानिकी पायलट और एक निपुण शक्तिशाली उद्योगपति थे. 

उन्होंने 10 फरवरी 1929 को भारत में जारी पहला पायलट लाइसेंस प्राप्त किया. इस वजह से उन्हें भारतीय नागरिक उड्डयन का जनक (Father of Indian civil aviation) कहा जाता था.

जेआरडी टाटा 1932 में भारत की पहली व्यवसायिक एयरलाइन “Tata Airlines” के संस्थापक थे, 1946 में यह “Air India” बन गई. अब यह भारतीय राष्ट्रीय एयरलाइन है.

वह 50 साल तक टाटा संस के चेयरमैन रहे. उन्होंने 1945 में टाटा मोटर्स की स्थापना भी की. विमानन क्षेत्र में उनकी सर्वोत्तम उपलब्धियों के लिए उन्हें भारत के माननीय कमोडोर (Commodore) की उपाधि दी गई.

1956 में भारत के पहले स्वतंत्र आर्थिक नीति संस्थान की स्थापना की और 1968 में Tata Consultancy Services को Tata Computer Services के रूप में स्थापित किया. नेशनल काउंसिल फॉर एप्लाइड इकोनॉमिक रिसर्च, नई दिल्ली की स्थापना जे.आर.डी.टाटा ने की थी.

देश की प्रगति में उनके महान योगदान के लिए उन्हें 1992 में “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था. टाटा का 89 वर्ष की आयु में 29 नवंबर 1993 को जिनेवा, स्विटजरलैंड में गुर्दे के संक्रमण से निधन हो गया.

#29. सत्यजीत रे (Satyajit Ray):

(1992 में भारत रत्न से सम्मानित)

इस असाधारण भारतीय फिल्म निर्देशक का जन्म 2 मई 1921 को कोलकाता में हुआ था. सत्यजीत रे बंगाली समुदाय के सांस्कृतिक प्रतीक थे और 20वीं सदी के विश्व के महानतम फिल्म निर्माताओं में से एक थे.

उनकी फिल्में ऐतिहासिक नाटकों पर आधारित थीं और ज्यादातर विज्ञान कथाओं पर आधारित थीं. शुरुआत में वह बांग्ला के अलावा किसी और भाषा में फिल्में नहीं करना चाहते थे. उन्होंने एक व्यावसायिक कलाकार के रूप में 36 फिल्मों का निर्देशन किया.

वह एक स्वतंत्र फिल्म निर्माता थे और उनकी फिल्मों में डाकूमेंटरिस, फीचर फिल्में, लघु कथाएं आदि शामिल थे. वह एक महान फिल्म समीक्षक, प्रकाशक, संगीतकार, कथा लेखक और ग्राफिक डिजाइनर थे.

उन्होंने छोटे बच्चों को ध्यान में रखते हुए कई उपन्यास, लघु कथाएं भी लिखीं. 1955 में उनकी पहली फिल्म “पाथेर पांचाली” ने 11 अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार जीते और साथ ही 1956 के कान फिल्म समारोह में सर्वश्रेष्ठ मानवीय पुरस्कार जीता.

अपने पूरे जीवन में, उन्हें कई महान सम्मानों से सम्मानित किया गया, जिसमें 32 राष्ट्रीय पुरस्कार और 1979 में, 11 वां मास्को अंतर्राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार शामिल हैं. 1992 में, रे को प्रतिष्ठित अकादमी पुरस्कार (ऑस्कर) से सम्मानित किया गया.

भारतीय फिल्म उद्योग में उनके उल्लेखनीय योगदान के लिए उन्हें 1992 में “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था. भारतीय सिनेमा के इस महानायक का 23 अप्रैल 1992 को कलकत्ता के एक अस्पताल में हृदय और फेफड़ों की बीमारी के कारण निधन हो गया.

#30. गुलजारीलाल नंदा (Gulzarilal Nanda):

(1997 में भारत रत्न से सम्मानित)

भारत के इस महान सपूत का जन्म 4 जुलाई 1898 को हुआ था, वे एक प्रख्यात स्वतंत्रता सेनानी, एक महान प्रसिद्ध श्रमिक नेता थे. इलाहाबाद विश्वविद्यालय से श्रम मामलों में अपनी शोध की डिग्री प्राप्त करने के बाद, वह 1921 में नेशनल कॉलेज ऑफ़ बॉम्बे के आर्थिक और श्रम अध्ययन के प्रोसेसर बन गए.

नंदा जी ने एक प्रोसेसर के रूप में अपना करियर छोड़ दिया और गांधी के आदेश पर राष्ट्रीय स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल हो गए, वे गांधी के सिद्धांतों के सच्चे अनुयायी थे.

उन्होंने हमेशा श्रमिकों से संबंधित महत्वपूर्ण मामलों को उजागर किया; वह 1946-1950 तक श्रम मंत्री रहे, उन्होंने श्रम विवाद विधेयक (Labor Disputes Bill) के कार्यान्वयन के लिए काम किया. बाद में उन्हें नेशनल ट्रेड यूनियन कांग्रेस से मदद मिली.

स्वतंत्रता के बाद, गुलजारी लाल नंदा ने विश्व स्तर पर कई बार अंतर्राष्ट्रीय श्रम सम्मेलन (International Labor Conference) में भारत का प्रतिनिधित्व किया. 

उन्होंने दो बार भारत के अंतरिम प्रधान मंत्री के रूप में कार्य किया, पहली बार जवाहरलाल नेहरू के निधन पर और दूसरी बार लाल बहादुर शास्त्री के निधन पर. नंदा जी मूल्यों और सिद्धांतों वाले व्यक्ति थे, उन्होंने कभी भी अपने लाभ के लिए पद का दुरुपयोग नहीं किया और अपने नाम पर कोई संपत्ति भी नहीं रखी.

उनकी सेवा और मातृभूमि के प्रति समर्पण के लिए 1997 में “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया. गुलजारीलाल नंदा का 15 जनवरी 1998 को 99 साल की उम्र में निधन हो गया.

#31. अरुणा आसफ अली (Aruna Asaf Ali):

(1997 में भारत रत्न से सम्मानित)

अरुणा आसफ अली का जन्म 16 जुलाई 1909 को कालका, हरियाणा में एक रूढ़िवादी हिंदू बंगाली परिवार में हुआ था. वह भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन की सबसे प्रमुख महिला नेताओं में से एक थीं. उनमें एक असाधारण चमक थी जिसने भारत के नागरिकों के बीच स्वतंत्रता आंदोलन को प्रज्वलित किया.

1942 में भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान, उन्होंने एक अविस्मरणीय कार्यक्रम में भाग लिया जब उन्होंने गोवालिया टैंक मैदान में राष्ट्रीय ध्वज फहराया. इसी के साथ अरुणा भारत के हजारों युवाओं के लिए एक किंवदंती बन गईं.

महान समाजवादी अरुणा अली ने अपनी एक समाजवादी पार्टी बनाई. बाद में यह समूह भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी में शामिल हो गया और उसके बाद यह केंद्रीय समिति का सदस्य बन गया. उन्होंने भारतीय ट्रेड यूनियन कांग्रेस के उपाध्यक्ष के रूप में भी कार्य किया.

उन्हें 1975 में शांति के लिए “लेनिन पुरस्कार” और 1991 में अंतर्राष्ट्रीय समझ के लिए “जवाहरलाल नेहरू पुरस्कार” से सम्मानित किया गया था.

29 जुलाई 1996 को 87 वर्ष की आयु में नई दिल्ली में उनका निधन हो गया. उन्हें मरणोपरांत 1997 में भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था.

#32. ए पी जे अब्दुल कलाम (A. P. J. Abdul Kalam):

(1997 में भारत रत्न से सम्मानित)

महान भारतीय वैज्ञानिक ए.पी.जे. अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्टूबर 1931 को तमिलनाडु के रामेश्वरम में हुआ था और उन्होंने भौतिकी और विमान निर्माण तकनीकों का अध्ययन किया था. अपने पूरे जीवन में, उन्होंने भारत के प्रमुख अनुसंधान संस्थान- DRDO (रक्षा अनुसंधान और विकास संस्थान) और ISRO (भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान) के वैज्ञानिक के रूप में काम किया.

कलाम साहब भारत के मिसाइल योजना (Missile program) के मुख्य वास्तुकार थे और उनके अथक प्रयासों के कारण, भारत को मिसाइल टैकनोलजी के क्षेत्र में एक ताकत के रूप में पहचाना जाता है.

डॉ कलाम को उनके विनम्र और प्रेरक व्यक्तित्व के कारण प्यार से भारत का मिसाइल मैन (Missile Man) कहा जाता है. उन्होंने Wings of Fire, India 2020, Ignited Minds जैसी कई प्रेरणादायक किताबें भी लिखी हैं.

2002 में उन्हें भारत के 11वें राष्ट्रपति के रूप में चुना गया और 2007 तक उन्होंने देश की सेवा की और लोगों के बीच उनकी प्रसिद्धि के कारण उन्हें लोगों का राष्ट्रपति कहा जाता था.

डॉ कलाम देश और विदेश के कई बड़े विश्वविद्यालयों जैसे IIT और IIM में अतिथि प्राध्यापक (Visiting professor) रहे हैं.

विज्ञान और रक्षा आधुनिकीकरण के क्षेत्र में उनके बहुमूल्य योगदान के लिए उन्हें वर्ष 1997 में “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था. शिलांग विश्वविद्यालय में एक व्याख्यान के दौरान 27 जुलाई 2015 को दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया.

#33. एम. एस. सुब्बुलक्ष्मी (M. S. Subbulakshmi):

(1998 में भारत रत्न से सम्मानित)

16 सितंबर 1916 को मदुरै में जन्मी एम.एस.सुब्बुलक्ष्मी, जिन्हें एमएस के नाम से भी जाना जाता है, प्रसिद्ध कर्नाटक गायकों में से एक थी.

एक गायक के रूप में जब उनका पहला एल्बम जारी हुआ तो उनकी उम्र मात्र 10 वर्ष थी. उन्होंने सेम्मनगुडी श्रीनिवास अय्यर के निर्देशन में कर्नाटक शास्त्रीय संगीत का अध्ययन किया था. 

उन्हें कन्नड़ शास्त्रीय संगीत में महारत हासिल थी लेकिन इसके अलावा वे तमिल, संस्कृत, गुजराती, मलयालम, हिंदी, तेलुगु, बंगाली आदि कई भाषाओं में भी पारंगत थीं.

वह एक बेहतरीन गायिका होने के साथ-साथ एक अदाकारा (नायिका) भी थीं. उन्होंने मीर और शिवसदन, सावित्री जैसी कई फिल्मों में अभिनय किया. उन्होंने न्यूयॉर्क, कनाडा, लंदन, मॉस्को आदि सुदूर पूर्व में भी अपनी झलक दिखाई थी.

उन्होंने शास्त्रीय संगीत के क्षेत्र में अद्भुत योगदान दिया; सुप्रभातम, कुरई ओन्ड्रम इल्लई, भजगोविन्दम, हनुमान चालीसा, विष्णु सहस्रनामम आदि उनकी रचनाएं हैं. उनकी सबसे प्रसिद्ध और अद्भुत गीत रचना “वैष्णव जन” जिसने सभी श्रोताओं की आंखों में आंसू ला दिए.

1988 में, एमएस को शास्त्रीय संगीत में उनके योगदान के लिए “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था और वह यह सम्मान पाने वाली पहली संगीतकार थी. एम एस सुब्बुलक्ष्मी का 11 दिसंबर 2004 को चेन्नई में उनके निवासस्थान पर निधन हो गया.

#34. चिदंबरम सुब्रमण्यम (Chidambaram Subramaniam):

(1998 में भारत रत्न से सम्मानित)

चिदंबरम सुब्रमण्यम का जन्म 30 जनवरी 1910 को तमिलनाडु के सेनगुट्टईपलायम में हुआ था. वह भारत के एक प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी और राजनीतिक नेता थे.

यह खाद्य मंत्री ही थे जिन्होंने गेहूं की स्व-उत्पादकता पर जोर देने के लिए देश को बदल दिया और लाखों किसानों को खेती के लिए गेहूं की नई किस्मों के उपयोग का प्रचार किया. जिससे भारत न केवल गेहूँ उत्पादकता में सक्षम देश बन गया बल्कि उसे अन्य देशों से आयात पर निर्भर नहीं रहना पड़ा.

उन्हें भारत की हरित क्रांति (Green Revolution) के राजनीतिक वास्तुकार के रूप में भी जाना जाता है. 1990 में, वे महाराष्ट्र के राज्यपाल बने और राजभवन को एक सार्वजनिक कार्य क्षेत्र में परिवर्तित करके, उन्होंने कई बैठकें कीं जो उद्योगपतियों, शिक्षाविदों, प्रतिष्ठित नागरिकों, गैर सरकारी संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ समाज के जटिल मुद्दों पर आधारित थीं.

उनकी सभी उपलब्धियों और योगदानों में, उनकी सबसे बड़ी उपलब्धि भारत की कृषि नीति का विकास है. उन्होंने भारतीदासन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, तिरुचिरापल्ली और नेशनल एग्रो फाउंडेशन, चेन्नई की स्थापना की.

1998 में, उनके योगदान के लिए, उन्हें भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था. चिदंबरम सुब्रमण्यम का 90 वर्ष की आयु में 7 नवंबर 2000 को चेन्नई में निधन हो गया.

#35. जयप्रकाश नारायण (Jayaprakash Narayan):

(1999 में भारत रत्न से सम्मानित)

जयप्रकाश नारायण का जन्म 11 अक्टूबर 1902 को बिहार के सारण जिले में हुआ था. वह स्वतंत्रता आंदोलन के एक प्रख्यात नेता, समाजवादी, लोकनेता थे. बचपन से ही वे एक होनहार छात्र थे और बिहार में अपनी प्राथमिक शिक्षा पूरी करने के बाद वे उच्च शिक्षा के लिए अमेरिका चले गए.

लेकिन भारत लौटने के बाद, वह अंग्रेजों के खिलाफ मुख्यधारा की राजनीति में शामिल हो गए और गांधी के नेतृत्व में कई आंदोलनों में भाग लिया.

आजादी के बाद जयप्रकाश जी ने राजनीति छोड़ने का फैसला किया और कई सालों तक राजनीति से दूर रहे. 1960 में वे फिर से बिहार की राजनीति में शामिल हो गए और देश में बढ़ते भ्रष्टाचार, बढ़ती महंगाई और गरीबी को देखकर दुखी हो गए.

जयप्रकाश आम जनता के बीच काफी लोकप्रिय व्यक्ति थे और इसी वजह से उन्हें “लोक नायक” कहा जाता था. वह 1970 के दशक के पूर्वार्द्ध के दौरान प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी के तथाकथित भ्रष्ट कार्यों के खिलाफ एक महत्वपूर्ण नेता के रूप में उभरे.

उन्होंने लोगों से पूर्ण क्रांति की अपील की थी. 25 जून 1975 को आपातकाल लगाया गया और जयप्रकाश को उनके समर्थकों के साथ गिरफ्तार कर लिया गया. लेकिन उनके नाम पर पूरे देश में आंदोलन आगे बढ़ा और 1977 में इंदिरा गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी बुरी तरह हार गई और जयप्रकाश के निर्देशन में विपक्षी पार्टी जीत गई. लेकिन उन्होंने सरकार में कोई पद स्वीकार नहीं किया और अलग रहे.

8 अक्टूबर, 1979 को, जयप्रकाश नारायण का पटना, बिहार में मधुमेह और हृदय रोग की जटिलताओं से निधन हो गया. 1999 में, लोक नायक जय प्रकाश नारायण को देश और समाज के लिए उनकी सेवा का सम्मान करने के लिए मरणोपरांत “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था.

#36. रवि शंकर (Ravi Shankar):

(1999 में भारत रत्न से सम्मानित)

रविशंकर का जन्म 7 अप्रैल 1920 को वाराणसी में हुआ था. वह 20वीं सदी के उत्तरार्ध में बेहतरीन संगीतकारों में से एक थे और एक प्रसिद्ध सितार वादक के रूप में जाने जाते थे. उन्होंने प्रसिद्ध संगीतकार उस्ताद अलाउद्दीन खान के मार्गदर्शन में सितार सीखा.

उनकी सितार बजाने की एक विशिष्ट शैली थी जो आधुनिक संगीत से थी. 1949 से 1956 तक, रविशंकर ने ऑल इंडिया रेडियो (नई दिल्ली) में संगीत निर्देशक, संगीतकार के रूप में काम किया. संगीत के प्रति उनके सम्मान के लिए उन्हें पंडित की उपाधि से सम्मानित किया गया.

पंडित रविशंकर ने 1956 में पूरे यूरोप और अमेरिका में भारतीय शास्त्रीय संगीत प्रस्तुत किया और इसे पूरे विश्व में प्रसिद्ध किया. उन्होंने प्रसिद्ध वायलिन वादक येहुदी मेनुहिन और बीटल्स गिटारवादक जॉर्ज हैरिसन के साथ कई प्रस्तुतियां दीं.

शंकर जी ने सितार और ऑर्केस्ट्रा के लिए कई संगीत दिए और 1970 और 1980 के दशक में दुनिया भर में भ्रमण करते रहे. पंडित रविशंकर ने सितार वादन में अपनी प्रतिभा से भारत और शास्त्रीय संगीत को गौरवान्वित किया.

अद्भुत और भावपूर्ण संगीत के लिए, उन्हें तीन बार संगीत के सबसे प्रसिद्ध पुरस्कार ग्रैमी अवार्ड से सम्मानित भी किया गया.

इसलिए, देश के लिए उनकी असाधारण सेवा के लिए उन्हें आदर और सम्मान देने के लिए, 1999 में, उन्हें भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया. 11 दिसंबर 2012 को 92 साल की उम्र में पंडित रविशंकर का अमेरिका के एक अस्पताल में निधन हो गया.

#37. अमर्त्य सेन (Amartya Sen):

(1999 में भारत रत्न से सम्मानित)

3 नवंबर 1933 को भारत के पश्चिम बंगाल के शांतिनिकेतन में जन्मे अमर्त्य सेन दुनिया के सबसे प्रभावशाली और असाधारण अर्थशास्त्रियों में से एक हैं.

सेन ने अपनी शिक्षा कोलकाता के प्रेसीडेंसी कॉलेज से पूरी की. उन्होंने इंग्लैंड और भारत के कई विश्वविद्यालयों में काम किया, जिनमें लंदन विश्वविद्यालय, दिल्ली और जादव विश्वविद्यालय, ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय और लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स शामिल हैं. वह हावर्ड विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र और दर्शनशास्त्र के प्रोफेसर थे.

एक भारतीय अर्थशास्त्री के रूप में, सेन ने भोजन की कमी के व्यावहारिक समाधान विकसित करने के लिए बहुत योगदानपूर्ण कार्य किया. उन्होंने भारतीय गरीबों की स्थिति पर भी ध्यान केंद्रित किया और शोधकर्ताओं का ध्यान कल्याण आधारित संबंधित मुद्दों की ओर आकर्षित किया.

उनके प्रयासों ने भारत सरकार का ध्यान भारत की खाद्य समस्या की ओर आकर्षित किया. उनके विचार व्यापक हैं और वे नीति निर्माता को न केवल अल्पावधि में बल्कि गरीबों की तत्काल पीड़ा और खोई हुई आय को कम करने में भी मदद करते हैं जैसे कि भारत में खाद्य कीमतों को स्थिर करना और लोगों के लिए विभिन्न कार्य परियोजनाएं बनाना.

इन समस्याओं के खिलाफ सेन के समाज कल्याण पर मंथन हुआ – बहुमत का शासन; गरीबों की स्थिति और व्यक्ति के अधिकारों के बारे में जानकारी की उपलब्धता. उन्होंने अनुमानित कार्य और पुरुषों और महिलाओं के बीच असमानता पर एक स्पष्टीकरण भी प्रदान किया.

वह भारत के समाज सुधारक हैं और उन्होंने सरकार को लोगों के स्वास्थ्य और शिक्षा क्षेत्र में सुधार करने का सुझाव दिया है. 

1998 में, महान भारतीय अर्थशास्त्री सेन को सामाजिक विकल्प के सिद्धांत और समाज के सबसे गरीब लोगों की समस्याओं में उनके योगदान के लिए अर्थशास्त्र के क्षेत्र में “नोबेल पुरस्कार” से सम्मानित किया गया था.

कल्याणकारी अर्थशास्त्र में उनके काम के लिए उन्हें 1999 में “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था.

#38. गोपीनाथ बोरदोलोई (Gopinath Bordoloi):

(1999 में भारत रत्न से सम्मानित)

प्रख्यात स्वतंत्रता सेनानी गोपीनाथ बोरदोलोई का जन्म 6 जून 1890 को हुआ था. वे पेशे से वकील थे और 1917 में उन्होंने गुवाहाटी में प्रैक्टिस करना शुरू किया. वह महात्मा गांधी के अनुयायी थे और अहिंसा के मार्ग पर चलते थे.

1946-47 में, मुस्लिम राजनीतिक नेता और अधिकांश मुसलमान महत्वपूर्ण रूप से हिंदू नियंत्रित असम को एकीकृत करने की इच्छा में लीग में शामिल हो गए. बोरदोलोई हिंदू प्रभुत्व असम (पूर्वी पाकिस्तान में जो ज्यादातर मुसलमानों को उकसा रहा था) के समावेश को लगातार रोक रहे थे.

गोपीनाथ बोरदोलोई ने, कूटनीति और राजनीतिक प्रभाव में अन्य राजनेताओं के साथ, अंततः भारत संघ के तहत इस क्षेत्र को संरक्षित किया.

स्वतंत्रता के बाद, गोपीनाथ बोरदोलोई ने उन हजारों हिंदू शरणार्थियों का सक्रिय रूप से पुनर्वास किया, जो पूर्वी पाकिस्तान से भागकर आये थे. उन्होंने असम में लोगों की एकता और शांति सुनिश्चित करने के लिए शुरू से अंत तक काम किया. उनके इस कदम ने असम को पूर्वी पाकिस्तान की आजादी की जंग से बचा लिया.

उन्होंने असम के मुख्यमंत्री के रूप में कार्य किया और बाद में उन्हें 1999 में प्रतिष्ठित “भारत रत्न” पुरस्कार से सम्मानित किया गया.

#39. लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar):

(2001 में भारत रत्न से सम्मानित)

भारत की कोकिला (Nightingale of India) के नाम से मशहूर लता मंगेशकर का जन्म 28 सितंबर 1929 को इंदौर में हुआ था.

उन्होंने अपनी संगीत शिक्षा (हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत) उस्ताद अमानत अली से शुरू की. वह एक प्रसिद्ध भारतीय गायिका और एक सामयिक संगीतकार तथा भारत की सम्मानित पार्श्व गायिकाओं में से एक थीं.

लता जी ने अपने गायन जीवन की शुरुआत 1942 से की थी, जिसका जादू सात दशकों तक दर्शकों पर बना रहा. उन्होंने भारतीय सिनेमा में 36 क्षेत्रीय भाषाओं में हजारों गाने गाए और विदेशी भाषाओं में भी अपनी मधुर आवाज दी. उन्होंने विभिन्न राग आधारित गीत गाए.

1950 के बाद से उन्होंने अनिल विश्वास, नौशाद अली, शंकर जयकिशन, पंडित अमरनाथ हुसैन, एसडी बर्मन, लाल भगत राम और कई अन्य भारतीय सिनेमा के सर्वश्रेष्ठ संगीतकारों के साथ काम करना शुरू किया.

लता जी ने 1970 से लेकर अगले कई वर्षो तक देश-विदेश में जरूरतमंद लोगों के लिए कई संगीत समारोहों में मुफ्त में गायन किया. 1974 में, उन्होंने लंदन के रॉयल अल्बर्ट हॉल में अपना पहला विदेशी संगीत कार्यक्रम प्रस्तुत किया था.

लता मंगेशकर को गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में सिनेमा के इतिहास में सबसे अधिक रिकार्डेड कलाकार के रूप में सूचीबद्ध किया गया है. उन्होंने 1948 से 1974 तक 20 भारतीय भाषाओं में लगभग 25 हजार एकल, कोरस और युगल गीत गाए.

संगीत में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए, लता जी को पद्म विभूषण (1999), पद्म भूषण (1969), महाराष्ट्र भूषण पुरस्कार (1997), दादा साहब फाल्के पुरस्कार (1989), एनटीआर राष्ट्रीय पुरस्कार (1999) एएनआर अवार्ड (2009) जैसे कई पुरस्कारों और सम्मानों से सम्मानित किया जा चुका है और अंत में 2001 में “भारत रत्न” से भी सम्मानित किया गया.

लता जी एमएस सुब्बुलक्ष्मी के बाद “भारत रत्न” से सम्मानित होने वाली दूसरी गायिका थीं. 6 फरवरी 2022 को लता मंगेशकर का 92 साल की उम्र में मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में निधन हो गया.

#40. उस्ताद बिस्मिल्लाह खान (Ustad Bismillah Khan):

(2001 में भारत रत्न से सम्मानित)

उस्ताद बिस्मिल्लाह खां का जन्म 21 मार्च 1916 को डुमरांव, बिहार में हुआ था. उनका असली नाम कमरुद्दीन था, बाद में उनका नाम बदलकर बिस्मिल्लाह खान कर दिया गया. 

इनके मार्गदर्शन इनके चाचा अली बक्श “विलायतु” थे जो एक प्रसिद्ध शहनाई वादक थे. बहुत ही कम समय में बिस्मिल्लाह शहनाई के परफेक्शनिस्ट बन गए.

उन्होंने अपना पूरा जीवन संगीत को समर्पित कर दिया था. पूरी दुनिया में ख्याति प्राप्त करने के बावजूद भी वे हमेशा अपनी जमीन से जुड़े रहे.

उनके मधुर शहनाई की चर्चा पहली बार 1937 में कोलकाता में अखिल भारतीय संगीत सम्मेलन के संगीत कार्यक्रम में हुई थी. आजादी के बाद के दौर में भी शहनाई पर उनका दबदबा बना रहा.

उन्होंने अपनी प्रस्तुति से भारतीय शास्त्रीय संगीत को जीवित रखा. वह हिंदू-मुस्लिम एकता में विश्वास करते थे और अपने संगीत के माध्यम से उन्होंने भाईचारे का संदेश दिया. वे कहते थे कि केवल संगीत ही मनुष्य को जोड़ सकता है क्योंकि संगीत की कोई जाति नहीं होती.

1947 में भारत की आजादी से एक शाम पहले, बिस्मिल्लाह खान ने अपनी शहनाई से भारत के लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया था. उन्होंने दिल्ली के लाल किले में भी प्रदर्शन किया था. उस वर्ष से वह हर साल 15 अगस्त को प्रधानमंत्री के भाषण के बाद शहनाई वादन करते थे.

उन्होंने कई देशों में प्रदर्शन किया है और उनकी बहुत बड़ी फैन फॉलोइंग रही है. खान ने अमेरिका, जापान, बांग्लादेश, इराक, अफगानिस्तान, कनाडा, यूरोप, दक्षिण अफ्रीका और हांगकांग से सीधा प्रसारण देना शुरू किया.

उस्ताद बिस्मिल्लाह खाँ निःसंदेह भारत के अमूल्य रत्न थे. उन्हें भारत के सभी सर्वोच्च नागरिक सम्मान जैसे पद्म भूषण, पद्म श्री और पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया. उन्हें 2001 में “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था.

शहनाई वादक उस्ताद बिस्मिल्लाह खान का 90 वर्ष की आयु में 21 अगस्त 2006 को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया.

#41. भीमसेन जोशी (Bhimsen Joshi):

(2009 में भारत रत्न से सम्मानित)

भीमसेन जोशी का जन्म 4 फरवरी 1922 को कर्नाटक में देशस्थ माधव ब्राह्मण परिवार हुआ में था. बहुत कम उम्र से ही वे संगीत के बड़े प्रेमी बन गए और 11 साल की उम्र में गुरु की तलाश में अपना घर छोड़ दिया.

यह किराना धारा के उत्तराधिकारी है, जो हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत का एक रूप है. यह “ख्याल” संगीत के लिए विशेष रूप से प्रसिद्ध है. वह ख़याल को कुशलता से समझाते थे और हिंदी और मराठी में कई भजन गाये.

उनकी सबसे यादगार अदाकारी जो आज भी सभी को याद है वो थी “मिले सुर मेरा तुम्हारा…”. उनकी सुनहरी आवाज ने लोगों को एक साथ आने की अपील की.

उन्हें पद्म श्री (1972), पद्म भूषण (1985), संगीत नाटक अकादमी फेलोशिप (1998), और पद्म विभूषण (1999) से भी सम्मानित किया गया. 2009 में, उन्हें हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत को समृद्ध करने के लिए भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था.

पंडित भीमसेन जोशी का 24 जनवरी 2011 को पुणे के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया.

#42. सी एन आर राव (C. N. R. Rao):

(2014 में भारत रत्न से सम्मानित)

चिंतामणि नगेसा रामचंद्र राव (सी.एन.आर.राव) का जन्म 30 जून 1934 को बैंगलोर में हुआ था. 1958 में उन्होंने 24 साल की उम्र में 2 साल 9 महीने में पीएचडी पूरी की.

वह एक रसायनज्ञ और शोधकर्ता हैं जो ठोस अवस्था और संरचनात्मक रसायन विज्ञान में विशेषज्ञता रखते हैं. उनका मुख्य योगदान रसायनों के क्षेत्र में विकास करना रहा है. राव दो आकार के ऑक्साइड पदार्थों- La2CuO4 का समन्वय करने वाले पहले व्यक्ति थे.

हम उनके कार्य के कारण नियंत्रित धातु-इन्सुलेटर परिवर्तन की संरचना को आसानी से पढ़ सकते हैं. तापमान, अतिचालकता और प्रतिरोध जैसे व्यावहारिक क्षेत्रों में इस अध्ययन के गहरे निहितार्थ हैं. उन्होंने नैनोमटेरियल्स और हाइब्रिड मैटेरियल्स के क्षेत्र में बहुत बड़ा योगदान दिया है.

उनके संरचनात्मक अनुसंधान और ठोस अवस्था में उनके शोध के लिए उन्हें 4 फरवरी 2014 को “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था.

#43. सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar):

(2014 में भारत रत्न से सम्मानित)

सचिन तेंदुलकर का जन्म 24 अप्रैल 1973 को मुंबई में हुआ था. सचिन को अब तक का सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज और इस खेल को खेलने वाले महानतम क्रिकेटरों में से एक माना जाता है.

1989 में जब उन्होंने 16 साल की उम्र में पाकिस्तान के खिलाफ अपने टेस्ट करियर की शुरुआत की, तब से सचिन 16 नवंबर 2013 को अपनी सेवानिवृत्ति के दिन तक उसी उत्साह और समर्पण के साथ भारत के लिए खेलते रहे.

सचिन ने अपने लंबे और सफल क्रिकेट करियर में अपने शानदार बल्लेबाजी के प्रदर्शन से लगभग सभी बल्लेबाजी रिकॉर्ड तोड़ दिए; उनके नाम कई अटूट रिकॉर्ड हैं जैसे: टेस्ट मैचों में सर्वाधिक रन (15,921), सर्वाधिक शतक (100), सर्वाधिक टेस्ट मैच (200), सर्वाधिक टेस्ट और एकदिवसीय शतक (क्रमशः 51 और 49) आदि.

तेंदुलकर ने खेल के प्रति अपनी ईमानदारी से भारत को गौरवान्वित किया है और भारत की लाखों आशाओं को दिशा दी है. पूरा भारत उनकी सफलता को अपनी सफलता के रूप में मनाता है और उन्हें अब तक का सबसे महान भारतीय खिलाड़ी मानता है.

सचिन ने दुनिया और भारत के लगभग सभी क्रिकेट पुरस्कारों के साथ-साथ खेल के सभी सम्मान प्राप्त किए हैं; उन्हें पद्म श्री और पद्म विभूषण से भी सम्मानित किया जा चुका है.

2013 में, सरकार ने सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार “भारत रत्न” देने के नियमों में बदलाव किया, जिसके तहत सचिन तेंदुलकर को वर्ष 2014 में “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था.

सचिन यह सम्मान पाने वाले पहले खेल व्यक्तित्व (Sports personality) बने, साथ ही “भारत रत्न” प्राप्त करने वाले सबसे कम उम्र के भारतीय भी बने.

#44. मदन मोहन मालवीय (Madan Mohan Malviya):

(2015 में भारत रत्न से सम्मानित)

मदन मोहन मालवीय, पूर्ण रूप से पंडित मदन मोहन मालवीय, जिन्हें महामना भी कहा जाता है, एक महान राष्ट्रवादी, स्वतंत्रता आंदोलन के नेता और पत्रकार थे, जिनका जन्म 25 दिसंबर 1861 को इलाहाबाद में हुआ था.

मालवीय कांग्रेस पार्टी की शुरुआत से ही उसके साथ जुड़े रहे और 1886 में कलकत्ता में इसके दूसरे सत्र में शामिल हुए. अपने प्रारंभिक जीवन में उन्होंने दो महत्वपूर्ण समाचार पत्रों के संपादक के रूप में कार्य किया; 1887 में “हिंदुस्तान” और 1889 में “द इंडियन ओपिनियन”.

मालवीय जी ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से एलएलबी की और एक सफल वकील के रूप में अभ्यास किया. साथ ही वे स्वतंत्रता संग्राम में बहुत सक्रिय थे; 1909 और 1918 में वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष बने.

मालवीय जी नरम स्वभाव के नेता थे; गांधीजी ने ही उन्हें “महामना” की उपाधि दी थी. वह अंग्रेजों के खिलाफ कई आंदोलनों में बहुत सक्रिय रहे और एक वकील के रूप में स्वतंत्रता सेनानियों की रिहाई के लिए लड़ते रहे, जिन्हें चौरी-चौरा की घटना के बाद अपराधी घोषित किया गया था और लगभग सभी को मुक्त कर दिया गया था.

लेकिन शायद उनका सबसे महत्वपूर्ण योगदान एनी बेसेंट की मदद से 1916 में बनारस हिंदू विश्वविद्यालय की स्थापना था. बीएचयू आज भारत के सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों में से एक है. मदन मोहन मालवीय बीएचयू के स्थापना से लेकर 1939 तक इसके कुलाधिपति बने रहे.

इस महान शिक्षाविद् और स्वतंत्रता आंदोलन के नेता का निधन 12 नवंबर 1946 को हुआ था. उन्हें 2014 में मरणोपरांत “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था.

#45. अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee):

(2015 में भारत रत्न से सम्मानित)

अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म 25 दिसंबर 1924 को ग्वालियर में हुआ था. उनका छह दशकों से अधिक समय तक भारत की राजनीती में एक लंबा राजनीतिक करियर रहा है.

उन्हें देश के महान राजनेताओं में गिना जाता है और लोगों के बीच उनकी असाधारण वाक्पटुता के लिए सराहना की जाती है. वाजपेयी ने अपने सार्वजनिक जीवन की शुरुआत 1939 में आरएसएस में शामिल होने के बाद की और जीवन भर इसके विचारों पर टिके रहे.

वे पूर्व जनसंघ के अध्यक्ष और प्रख्यात सदस्य बने. आपातकाल के दौरान, वह पीएम इंदिरा गांधी के खिलाफ व्यापक विरोध के महत्वपूर्ण नेताओं में से एक थे और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था.

आपातकाल के बाद जब जनता सरकार ने कार्यभार संभाला, तो वाजपेयी को विदेश मंत्री के रूप में चुना गया था. 1980 में, उन्होंने अन्य जनसंघ सदस्यों के साथ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की स्थापना की.

जब पहली भाजपा सरकार सत्ता में आई, तो वाजपेयी 1996 में पहले 13 दिनों के लिए, 1998-1999 में 13 महीने के लिए दूसरी बार और फिर 1999 में 5 साल के लिए प्रधान मंत्री बने.

उनके नेतृत्व में, भारत ने अपने पहले परीक्षण के 24 साल बाद मई 1998 में दूसरा परमाणु परीक्षण (Nuclear test) किया. अपने कार्यकाल के दौरान, उन्होंने राष्ट्रीय राजमार्ग विकास परियोजना, प्रधान मंत्री ग्राम सड़क योजना आदि जैसी कई राष्ट्र निर्माण परियोजनाएं शुरू कीं.

अपने पूरे राजनीतिक जीवन के दौरान, अटल बिहारी वाजपेयी जी ने लोगों का प्यार और स्नेह प्राप्त किया और यहां तक कि उनके राजनीतिक विरोधी भी उनका अनुसरण करते हैं.

वर्ष 2014 में, उन्हें उनके असाधारण सार्वजनिक जीवन के लिए “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था. अटल बिहारी वाजपेयी का 16 अगस्त 2018 को 93 वर्ष की आयु में निधन हो गया.

#46. प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee):

(2019 में भारत रत्न से सम्मानित)

प्रणब कुमार मुखर्जी भारत के प्रमुख नेताओं में से एक थे. प्रणब मुखर्जी का जन्म 11 दिसंबर 1935 को पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले के मिराती गांव में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था.

प्रणब मुखर्जी की प्रारंभिक शिक्षा उनके गांव के पास स्थित एक प्राथमिक विद्यालय में हुई. इसके बाद उन्होंने इतिहास और राजनीति विज्ञान में मास्टर डिग्री के साथ कलकत्ता विश्वविद्यालय से कानून की डिग्री प्राप्त की.

अपने जीवन में उन्होंने एक कॉलेज शिक्षक और वकील के रूप में भी काम किया है. अपने मजबूत व्यक्तित्व और वाक्पटुता के कारण, उन्हें बंगीय साहित्य परिषद, निखिल भारत बंगा साहित्य सम्मेलन जैसे विभिन्न सांस्कृतिक और क्षेत्रीय संगठनों का नेतृत्व करने का अवसर भी मिला.

उनका संसदीय जीवन 1969 में शुरू हुआ जब वे पहली बार कांग्रेस पार्टी के राज्यसभा सदस्य के रूप में चुने गए. 1982 से 1984 तक, वह कई कैबिनेट पदों के लिए चुने गए. इसके साथ ही 1984 में वे भारत के वित्त मंत्री भी बने.

24 अक्टूबर 2006 को उन्हें भारत के वित्त मंत्री के पद पर नियुक्त किया गया, उन्होंने इस कार्य को भी बहुत अच्छी तरह से किया और भारत की विदेश नीति को मजबूत और स्पष्ट करने का काम किया. इसके साथ ही वर्ष 2009 में जब कांग्रेस दोबारा सत्ता में आई तो उन्हें केंद्रीय वित्त मंत्री का महत्वपूर्ण पद दिया गया.

अपने कार्यकाल के दौरान, उन्होंने भारत में कई महत्वपूर्ण राजनीतिक पदों पर कार्य किया है. इसके साथ ही उन्होंने भारत के 13वें राष्ट्रपति के रूप में भी कार्यभार संभाला है.

विभिन्न राजनीतिक पदों पर रहते हुए, उन्होंने भारत के हित और प्रगति को बढ़ावा देने के लिए कई विशेष कार्य किए. अपनी सेवा और अनोखे अंदाज के कारण वह अपने विरोधियों को भी अपना प्रशंसक और दोस्त बना लेते थे.

देश की राजनीति में उनके महत्वपूर्ण योगदान को देखते हुए उन्हें वर्ष 2019 में “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया. प्रणब मुखर्जी का 84 वर्ष की आयु में 31 अगस्त 2020 को नई दिल्ली के एक सैन्य अस्पताल में निधन हो गया.

#47. भूपेन हजारिका (Bhupen Hazarika):

(2019 में भारत रत्न से सम्मानित)

भूपेन हजारिका का जन्म 8 दिसंबर 1926 को असम के तिनसुकिया जिले के सादिया (वर्तमान) में हुआ था. उनके पिता का नाम नीलकंठ और माता का नाम शांतिप्रिया था.

उन्हें बचपन से ही संगीत में बहुत दिलचस्पी थी और इसका श्रेय उनकी मां को जाता है, जिन्होंने उन्हें बचपन से ही पारंपरिक संगीत सिखाया. उन्होंने 1931 में असमिया सिनेमा की फिल्म इंद्रमालती में पहली बार संगीत दिया.

वे एक कुशल संगीतकार होने के साथ-साथ एक मेधावी छात्र भी थे. उन्होंने महज 13 साल की उम्र में मैट्रिक की परीक्षा पास कर ली थी, जो उस समय में एक विलक्षण बात थी. बीए और एमए जैसी परीक्षाएं पास करने के बाद उन्होंने न्यूयॉर्क की कोलंबिया यूनिवर्सिटी से पीएचडी की डिग्री भी हासिल की.

संगीत जगत में उनके योगदान को देखते हुए उन्हें विभिन्न सम्मानों से नवाजा गया. साल 1992 में उन्हें फिल्मी दुनिया के सबसे बड़े सम्मान यानी दादा साहब फाल्के अवॉर्ड से भी नवाजा गया था.

इसके साथ ही साल 2009 में उन्हें असोम रत्न और पद्म भूषण से भी नवाजा गया था. अपने जीवन में उन्होंने संगीत की दुनिया की ऊंचाइयों को छुआ और असमिया संगीत की उन्नति में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया.

5 नवंबर 2011 को भारत के इस महान संगीतकार का 85 साल की उम्र में निधन हो गया. उनके महत्वपूर्ण कार्यों को देखते हुए, उन्हें भारत के 70वें गणतंत्र दिवस, 26 जनवरी 2019 को भारत सरकार द्वारा मरणोपरांत भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया.

#48.नानाजी देशमुख (Nanaji Deshmukh):

(2019 में भारत रत्न से सम्मानित)

नानाजी देशमुख का जन्म 11 अक्टूबर 1916 को महाराष्ट्र के हिंगोली जिले के कडोली शहर में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था. उनके पिता का नाम अमृतराव देशमुख और माता का नाम राजाबाई अमृतराव देशमुख था.

उनका प्रारंभिक जीवन बहुत ही चुनौतीपूर्ण और कमियों से भरा था. जब वह बहुत छोटे थे तब उनके माता-पिता की मृत्यु हो गई और उनका पालन-पोषण उनके मामा ने किया.

तमाम तरह की समस्याओं के बावजूद उनमें शिक्षा प्राप्त करने और समाज सेवा करने की तीव्र इच्छा थी. बचपन में उनके पास फीस देने और किताबें खरीदने के लिए भी पैसे नहीं होते थे.

उन्होंने अपनी शिक्षा के लिए सब्जियां बेचकर पैसा इकट्ठा किया और मंदिरों में रहते हुए उन्होंने पिलानी के प्रसिद्ध बिड़ला कॉलेज से उच्च शिक्षा प्राप्त की.

समाज सेवा और दूसरों की मदद करने का कार्य उन्हें बहुत प्रिय था, यही कारण था कि वर्ष 1930 में वे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में शामिल हो गए. महाराष्ट्र में पैदा होने के बावजूद उन्होंने राजस्थान और उत्तर प्रदेश जैसे उत्तरी भारत के राज्यों को अपनी कर्मभूमि के रूप में चुना.

उत्तर प्रदेश में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना में उनका महत्वपूर्ण योगदान माना जाता है. वे लंबे समय तक राजनीति में भी सक्रिय रहे और आपातकाल हटने के बाद वे उत्तर प्रदेश के बलरामपुर से सांसद भी चुने गए.

जब उन्हें केंद्रीय मंत्रिमंडल में उद्योग मंत्री के रूप में कार्यभार संभालने के लिए आमंत्रित किया गया, तो उन्होंने आदर्श राजनीति दिखाई और 60 साल से अधिक के सांसदों को कैबिनेट से दूर रहकर समाज सेवा करने का सुझाव दिया.

वर्ष 1980 में, उन्होंने राजनीति से संन्यास ले लिया और अपना शेष जीवन समाज सेवा और गरीबों के उत्थान के लिए समर्पित कर दिया. यह उनकी अनूठी इच्छा शक्ति थी कि उन्होंने अकेले ही नई दिल्ली में दीनदयाल अनुसंधान संस्थान की स्थापना की.

इसके साथ ही उन्होंने उत्तर प्रदेश का सबसे पिछड़ा इलाका माने जाने वाले गोंडा में कई सामाजिक कार्य भी किए.

वर्ष 1989 में वे चित्रकूट गए और इसे अपना अंतिम निवास बनाया और वहां रहते हुए गरीबों के उत्थान और सामाजिक सद्भाव को बढ़ावा देने के लिए काम किया. 26 फरवरी 2010 को चित्रकूट के पवित्र धाम में 95 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया.

उनकी मृत्यु के बाद भी, उनकी शिक्षाएं और स्थापित संस्थान अभी भी लोगों की मदद के लिए काम कर रहे हैं.

देश और समाज की प्रगति के लिए उनके द्वारा किए गए इन महान कार्यों को देखते हुए 26 जनवरी 2019 को 70वें गणतंत्र दिवस पर उन्हें भारत सरकार द्वारा मरणोपरांत भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया.

अगर आपको Bharat Ratna Award Winner List In Hindi यह जानकारी अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी करे, हमारे अगले Post प्राप्त करने के लिए हमें करे और हमारा Facebook page करे, अपने सुझाव हमें Comments के माध्यम से दे.