Chhoti Badi Baatein Blog

सभी वेद, उपवेद, वेदांग के नाम अब करे चुटकियों में याद (Remember the names of all the Vedas, Upavedas, Vedangas quickly) 0

सभी वेद, उपवेद, वेदांग के नाम अब करे चुटकियों में याद (Remember the names of all the Vedas, Upavedas, Vedangas quickly)

हम में कई लोगों को अक्सर वेद, उपवेद, और वेदांग से लेकर मने में भ्रम की स्थिति बन जाती है. हम अक्सर आसानी से याद नहीं कर पाते की कोनसा वेद, उपवेद, और वेदांग है, भलेही इनके नाम हमने कई बार सुने होते है लेकिन हम इन्हें सही ढंग से...

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम के अनमोल विचार हिंदी में (A.P.J. Abdul Kalam Quotes In Hindi) 1

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम के अनमोल विचार हिंदी में Part #2 (A.P.J. Abdul Kalam Quotes In Hindi)

किसी विद्यार्थी की सबसे ज़रूरी विशेषताओं में से एक है पश्न पूछना. विद्यार्थियों को प्रश्न पूछने दीजिये. मेरे लिए नकारात्मक अनुभव जैसी कोई चीज नहीं हैं. मैं 18 मिलियन यूथ्स से मिला हूँ, और हर एक यूनीक बनना चाहता हैं. राष्ट्र लोगों से मिलकर बनता है और उनके प्रयास से,...

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम के अनमोल विचार हिंदी में (A.P.J. Abdul Kalam Quotes In Hindi) 1

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम के अनमोल विचार हिंदी में Part #1 (A.P.J. Abdul Kalam Quotes In Hindi)

इससे पहले कि सपने सच हों आपको सपने देखने होंगे. शिक्षण एक बहुत ही महान पेशा है जो किसी व्यक्ति के चरित्र, क्षमता, और भविष्य को आकार देता हैं. अगर लोग मुझे एक अच्छे शिक्षक के रूप में याद रखते हैं, तो मेरे लिए ये सबसे बड़ा सम्मान होगा. अगर...

"द लास्ट सपर" पेंटिंग के बारे में कुछ रोचक तथ्य (Some interesting facts about "The Last Supper" painting) 0

“द लास्ट सपर” पेंटिंग के बारे में कुछ रोचक तथ्य (Some interesting facts about “The Last Supper” painting)

इटली के प्रसिद्ध चित्रकार लिओनार्दो दा विंची द्वारा चित्रित “मोनालिसा” पेंटिंग के बाद जो दूसरी प्रसिद्ध पेंटिंग है वह  है “द लास्ट सपर”, 15वीं शताब्दी में बनाई गई यह दुनिया की सबसे ज्यादा पसंदीदा और अध्ययन किये जाने वाले पेंटिंग में से एक है. इस पेंटिंग में जीजस को उनके...

हिन्दू धर्म के धार्मिक सोलह संस्कार (षोडश संस्कार) Religious Sixteen Rites of Hinduism 0

हिन्दू धर्म के धार्मिक सोलह संस्कार (षोडश संस्कार) Religious Sixteen Rites of Hinduism

हिन्दू धर्म में सोलह संस्कारों (षोडश संस्कार) को विशेष महत्व दिया जाता है जो की हिन्दू धर्म में जन्मे व्यक्ति पर उसके गर्भाधान संस्कार से लेकर अन्त्येष्टि क्रिया तक किए जाते हैं. इनमें से विवाह, यज्ञोपवीत इत्यादि संस्कार बड़े धूमधाम और हर्षोल्हास के साथ मनाये जाते हैं. वर्तमान समय में...

किसी स्थान का पिन कोड कैसे तय किया जाता है? (How the pin code of a place is decided?) 0

किसी स्थान का पिन कोड कैसे तय किया जाता है? (How the pin code of a place is decided?)

आज भले ही पत्र लिखना या चिट्टी लिखना अतीत की बात हो गई है और इसी के साथ पिन कोड का उपयोग भी कम हो गया है जो की पत्र प्राप्तकर्ताओं के पते का एक अहम हिस्सा था, लेकिन हमारी ऑनलाइन खरीदारी की आदत ने पिन कोड को अप्रचलित होने...

Chanakya Neeti (In Hindi) 0

चाणक्य नीति ( हिंदी में ): सत्रहवां अध्याय – Chanakya Neeti (In Hindi): Chapter Seventeenth

१. वह विद्वान जिसने असंख्य किताबों का अध्ययन बिना सदगुरु के आशीर्वाद से कर लिया वह विद्वानों की सभा में एक सच्चे विद्वान के रूप में नहीं चमकता है. उसी प्रकार जिस प्रकार एक अनौरस संतान को दुनिया में कोई प्रतिष्ठा प्राप्त नहीं होती. 1. The scholar who has acquired...

Chanakya Neeti (In Hindi) 0

चाणक्य नीति ( हिंदी में ): सोलहवां अध्याय – Chanakya Neeti (In Hindi): Chapter Sixteenth

१. एक दुराचारी महिला का हृदय एकबद्ध नहीं होता है; यह विभाजित होता है. जब वह एक आदमी से बात करती है तो दूसरे की ओर वासना से देखती है और मन में तीसरे को चाहती है. 1. The heart of a vicious woman is not united; it is divided....

Chanakya Neeti (In Hindi) 0

चाणक्य नीति ( हिंदी में ): पन्द्रहवां अध्याय – Chanakya Neeti (In Hindi): Chapter Fifteenth

१. वह व्यक्ति जिसका हृदय हर प्राणी मात्र के प्रति करुणा से पिघलता है. उसे जरुरत क्या है किसी ज्ञान की, मुक्ति की, सर के ऊपर जटाजूट रखने की और अपने शरीर पर राख मलने की. 1. For one whose heart melts with compassion for all creatures; what is the...

Chanakya Neeti (In Hindi) 0

चाणक्य नीति ( हिंदी में ): चौदहवां अध्याय – Chanakya Neeti (In Hindi): Chapter Fourteenth

१. गरीबी, दुःख और एक बंदी का जीवन यह सब व्यक्ति के किए हुए पापों का ही फल है. 1. Poverty, disease, sorrow, imprisonment and other evils are the fruits borne by the tree of one’s own sins. २. आप दौलत, मित्र, पत्नी और राज्य गंवाकर वापस पा सकते है...